बिहार में मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट, अगले दो दिन आंधी-बारिश की संभावना, सतर्क रहें लोग

PATNA : बंगाल की खाड़ी में विकसित चक्रवात अम्पन का असर सोमवार की सुबह से बिहार में दिखने लगेगा। बिहार के कई जिलों में बादल छाए रहेंगे। 30 से 50 किमी की रफ्तार से हवा चलेगी। इसके मद्देनजर अगले दो दिनों तक आंधी-बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

मौसमविदों का कहना है कि यह साइक्लोन थोड़ा ज्यादा मजबूत है, लेकिन यह ओडिशा और आंध्रप्रदेश के तटों से टकरा रहा है। इस कारण बिहार के मौसम और बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं छोड़ेगा। मौसमविदों की मानें तो सोमवार से सूबे के तापमान में भी दो से तीन डिग्री की गिरावट दर्ज की जाएगी। मौसमविद् प्रो. प्रधान पार्थ सारथी ने बताया कि चक्रवात आने की स्थिति में मैदानी इलाकों में तापमान तेजी से बढ़ता है। चूंकि नमी को यह साइक्लोन अपनी तरफ तेजी से खींचता है इस वजह से पारे में तेजी से बढ़ोतरी होती है और मौसम भी शुष्क हो जाता है। पिछले दो-तीन दिनों से पारे में बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

कंकड़बाग में आज पांच घंटे बिजली नहीं रहेगी : कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बीच सोमवार को शहर के कई मोहल्लों में बिजली की किल्लत झेलनी पड़ेगी। कंकड़बाग के कई मोहल्लों में सोमवार को पांच घंटे तक बिजली सप्लाई बंद रहेगी। इससे सबसे अधिक बिजली के साथ पानी की समस्या उत्पन्न होगी।

पटना विद्युत आपूर्ति प्रतिष्ठान (पेसू) नेे सोमवार को पटना नगर निगम की ओर से नाला उड़ाही के आलोक में अशोकनगर सब स्टेशन के 11केवी कोऑपरेटिव फीडर को पांच घंटे बंद रखने का फैसला किया है। यह फीडर सोमवार की सुबह 10 बजे से दोपहर 3 बजे तक बंद रखा जायेगा। इससे राम लखन पथ, विग्रहपुर, पूर्वी इंदिरा नगर, संजय नगर व आरएमएस कॉलोनी घंटों बिजली की समस्या रहेगी। खासकर नहाने, धोनेे के साथ ही रसोई बनाने में गृहणियों को अधिक समस्या आयेगी।

दस हजार आबादी रहेगी प्रभावित: : पेसू के मुताबिक अशोकनगर के कॉआपरेटिव फीडर से कंकड़बाग के पांच प्रमुख कॉलोनी के दो हजार बिजली उपभोक्ताओं को बिजली सप्लाई की जाती है। यानी दस से पंंद्रह हजार की आबादी इससे प्रभावित होगी। सुबह *दस बजे ही बिजली सप्लाई इस फीडर से बंद कर दी जायेगी। इससे इस आबादी को बिजली के साथ पानी की जबरदस्त किल्लत होगी, क्योंकि दोबारा फीडर से बिजली दोपहर तीन बजे चालू होगी। यानी पांंच घंटे तक बिजली बंद *रहेगी। वरीय इंजीनियरों के मुताबिक नाला उड़ाही देरी तक चली तो बिजली चालू करने में तीन बजे से देरी भी हो सकती है। इसलिए इंजीनियरों ने इस फीडर से जुड़े लोगों को सुबह दस बजे तक पानी का पर्याप्त भंडारण कर लेने की सलाह दी है, ताकि ज्यादा समस्या नहीं हो। वहीं जिनके घर मेंं इन्वर्टर आदि हैं, उसे भी दस बजे तक पूरा चार्ज कर लेना बेहतर होगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.