आज से 3 दिनों के लिये बिहार की सबसे बड़ी दवा मंडी बंद

Patna:बिहार की सबसे बड़ी दवा मंडी गोविंद मित्रा रोड कोरोना संक्रमण के खौफ के कारण 3 दिनों के लिए बंद हो गई है. पटना जिला दवा व्यवसाय संघ और बिहार केमिस्ट एंड ड्रगस्ट एसोसिएशन ने संयुक्त रूप से इस दवा मंडी को 3 दिन के लिए बंद करने का निर्णय लिया है. संघ ने कहा कि उन्होंने प्रशासन से बैरीकेटिंग लगाने की मांग की थी पर नहीं लगाई गई और भीड़ बढ़ती गई. कई दुकानदार कोरोना संक्रमित हो गए हैं. इस कारण दुकान को बंद रखने का निर्णय लिया गया है.

एम्स पटना का लैब टेक्नीशियन सोमवार को कोरोना पॉजिटिव पाया गया. इसके बाद एहतियातन एम्स की लैब को 24 घंटे के लिए बंद कर दिया गया है. पटना एम्स के नोडल पदाधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने बताया कि जिस लैब में कोरोना के सैम्पलों की जांच होती है, वहां का टेक्नीशियन कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. ऐसे में संक्रमण न फैले, इसलिए 24 घंटे तक एम्स में कोरोना की जांच रोक दी गई है. वहीं लैब व उससे संबंधित विभागों को सेनेटाइज किया जाएगा. इसके बाद फिर से जांच शुरू होगी.

उधर राजधानी पटना के पालीगंज के डीहपाली गांव में हुए शादी समारोह की वजह से बने कोरोना संक्रमण चेन से एक साथ 79 कोरोना संक्रमित मिले. समारोह में शामिल 369 लोगों की जांच में 79 संक्रमित पाए गए हैं. इस समारोह में शामिल हुए 110 लोग अब तक संक्रमित मिल चुके हैं. पालीगंज संक्रमण चेन ने पटना जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की नींद उड़ा दी है. यह सामुदायिक संक्रमण का कारण बनता जा रहा है. पटना में एक दिन में किसी एक जगह पर इतनी बड़ी संख्या में संक्रमित मिलने का यह रेकॉर्ड है. इससे पालीगंज बाजार और आसपास के गांवों के लोग भी दहशत में हैं. यह शादी 15 जून को हुई थी. समारोह के एक दिन बाद ही 17 जून को दूल्हे की मौत हो गई थी. हालांकि दूल्हे की कोरोना जांच नहीं हो पाई थी. उसके बाद बारातियों की जांच शुरू हुई, पहले चरण में नौ संक्रमित मिले. 22 जून को 15 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. इसके बाद चार चरणों में 369 लोगों के सैंपल लिये गए, जिनमें 79 लोग संक्रमित पाए गए.

सोमवार को मिले सभी संक्रमितों को बिहटा स्थित आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है. नगर बाजार से सटे डीहपाली व खपुरा के अलावा बाबा बोरिंग रोड व मीठा कुआं मोहल्ले को कंटेनमेंट जोन में तब्दील कर दिया गया है. इनके घर से निकलने पर पाबंदी लगा दी गई है. उनके मोहल्ले में सिर्फ स्वास्थ्य विभाग के लोग जा सकते हैं. बीडीओ चिरंजीव पांडेय ने बताया कि मोहल्ले को सेनेटाइज कराने का काम शुरू कर दिया गया है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *