पहले मर्डर करके तिहाड़ गया, वहां बहन के रेप के आरोपी तक पहुंचा और उसे मार दिया

तिहाड़ जेल. कैदियों के लिए देश की सबसे ज़्यादा सुरक्षित जेल मानी जाती है. जेल के भीतर हत्या जैसे मामले कम ही सुनने को मिलते हैं. 30 जून मंगलवार को तिहाड़ जेल में एक कैदी ने दूसरे कैदी की हत्या कर दी. वजह बताई गई बदला. पुलिस के मुताबिक आरोपी कैदी ने साजिश के तहत पहले अपने वॉर्ड को चेंज करवा कर मृतक कैदी के वॉर्ड में कराया और फिर मौका देख कर उसपर हमला कर दिया. वारदात जेल नंबर 8 की है. रोज की तरह कैदियों को उनके बैरक से बाहर निकला गया था. तभी जेल नंबर 8 में बंद मोहम्मद मेहताब नाम के कैदी पर जाकिर नाम के दूसरे कैदी ने किसी धारदार चीज़ से हमला कर दिया. इस हमले में घायल हुए मेहताब को पहले जेल में प्राथमिक उपचार दिया गया. फिर उसे डीडीयू अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई

क्या रही क़त्ल की वजह तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल के मुताबिक, मेहताब 2014 से रेप के मामले में जेल में बंद था. उस पर ज़ाकिर की नाबालिग बहन के रेप का आरोप था. रेप के बाद पीड़िता ने कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी. वहीं, ज़ाकिर हत्या के एक मामले में 2018 से तिहाड़ जेल में ही बंद था. पुलिस के मुताबिक वो काफी समय से मेहताब से बदला लेने की फ़िराक़ में था.

तिहाड़ जेल में कैदियों के लिए अलग-अलग वॉर्ड हैं.जब जाकिर तिहाड़ पहुंचा तो मेहताब तिहाड़ की दूसरी जेल में बंद था. पुलिस के मुताबिक़, मेहताब तक पहुंचने के लिए जाकिर अपने साथियों के साथ बिना वजह झगड़ा करने लगा. रोज-रोज के झगड़े को देखते हुए तिहाड़ प्रशासन ने कुछ दिन पहले जाकिर को जेल नंबर 8 के उसी वॉर्ड में शिफ्ट किया, जिस वार्ड के पहले फ़्लोर पर मेहताब था.29 जून की सुबह जाकिर ने जेल में धातु की किसी चीज़ से खुद एक चाकूनुमा हथियार बनाया. मौका मिलते ही उसने मेहताब पर हमला कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया. डीडीयू अस्पताल में मेहताब को भर्ती कराया गया लेकिन मेहताब को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.