बिहारी लड़का-लड़की से शादी कर लेने मात्र से किसी भी विदेशी को नहीं दी जा सकती है भारत की नागरिकता

भारतीय से शादी के आधार पर नहीं मिल सकती नागरिकता : पटना हाईकोर्ट

पटना हाईकोर्ट ने अपने एक महत्वपूर्ण आदेश में कहा है कि भारत के मूल निवासी से विवाह कर लेने से किसी विदेशी महिला को भारत की नागरिकता नहीं मिल जाती है। चीफ जस्टिस संजय करोल व जस्टिस एस. कुमार की खंडपीठ ने एक नेपाली महिला किरण गुप्ता की याचिका खारिज करते हुए यह आदेश दिया। आवेदिका के वकील का कहना था कि उसके पास भारत का वोटर आई कार्ड, पैन और आधार कार्ड भी है, जिससे प्रमाणित होता है कि वह भारत की नागरिक हैं।

लेकिन कोर्ट का कहना था बिना भारतीय नागरिकता कानून के तहत आवेदन दिए किसी को भी नागरिकता नहीं मिल सकती है। कोर्ट को बताया गया कि आवेदिका की शादी भारत के मूल निवासी के साथ हुई थी। वह दो बच्चों की मां भी बनी। यहां कई संपत्ति की खरीदी। वह सीतामढ़ी जिले के रुन्नीसैदपुर के माणिक चौक से वर्ष 2018 में मुखिया का चुनाव जीत चुकी हैं, लेकिन नागरिकता के सवाल पर उसके चुनाव को अवैध करार दिया गया है। लेकिन कोर्ट ने उनकी दलील को नहीं माना और याचिका को खारिज कर दिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *