PM मोदी ने 370-चीन-गलवान-पाकिस्तान को बिहार में बनाया मुद्दा, BJP—JDU को सताने लगा हारने का डर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के बिहार विधानसभा के चुनाव प्रचार में उतरते ही राष्ट्रवाद का मुद्दा एक बार फिर से उछल गया है. प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को दिए अपने तीन चुनावी भाषणों में गलवान घाटी में बिहार रेजिमेंट के जवानों की बहादुरी की चर्चा करते हुए कहा कि आज भारत को कोई आंख नहीं दिखा सकता. ‘भारत का स्वाभिमान है बिहार और बिहार के जवानों ने गलवान घाटी और पुलवामा में बलिदान दिया लेकिन भारत माता का शीश नहीं झुकने दिया हम उनको श्रद्धांजलि देते हैं. लगे हाथों उन्होंने धारा 370 को लेकर भी कांग्रेस (Congress) पर हमला बोलते हुए कहा कि कुछ लोग चाहते हैं कि धारा 370 दोबारा लागू हो, लेकिन ये सम्भव नहीं है. इसके साथ ही कहा की NDA के विरोध में आज जो लोग खड़े हैं, वो देशहित के हर फैसले का विरोध कर रहे हैं.

ज़ाहिर है कि प्रधानमंत्री ने आते ही चुनाव का एजेंडा सेट करने की कोशिश की है. वहीं महबूबा मुफ़्ती ने भी अनुच्छेद 370 को लेकर विवादास्पद बयान दे दिया है जिसके बाद ये मामला अब और गरमाने वाला है. प्रधानमंत्री के एजेंडे का असर राहुल गांधी पर भी दिखा जब राहुल गांधी ने एक रैली को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जी बतायें कि चीन के सैनिकों को हिंदुस्तान की धरती से कब भगाया जाएगा? सवाल यह है कि हमारे पवित्र देश के भीतर चीन की सेना क्यों?

जानकार मानते हैं कि प्रधानमंत्री के राष्ट्रवाद के मुद्दे उछालने के बाद राहुल गांधी को भी उस मुद्दे पर बोलना पड़ा. दरअसल राष्ट्रवाद ही वो मुद्दा है जिसने 2014 का लोकसभा चुनाव हो या 2019 का लोकसभा चुनाव, भाजपा ने इस मुद्दे को आगे कर विरोधियों को ज़बरदस्त शिकस्त दी. अभी जब तेजस्वी यादव रोज़गार के मुद्दे के बहाने NDA पर बढ़त बनाने की कोशिश में लगे हैतो NDA राष्ट्रवाद और बिहार में जंगल राज का मुद्दा उठा तेजस्वी सहित महागठबंधन को बैकफुट पर लाने की कवायद में लग गया है.

राजनीतिक जानकार बताते हैं कि तेजस्वी यादव को भी पता है कि राष्ट्रवाद का मुद्दा जब उठता है तो तमाम मुद्दे गौण हो जाते हैं. अब जब असदुद्दीन ओवैसी भी अपने उम्मीदवारों के लिए चुनावी प्रचार के लिए बिहार पहुंच गए हैं तो ये मुद्दा और रंग पकड़ेगा, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है. तभी तो लगातार चुनाव प्रचार करने के बाद भी तेजस्वी प्रेस वार्ता करते हैं और रोजगार का मुद्दा उठाकर NDA को इसी मुद्दे के इर्द गिर्द रखना चाहते हैं, लेकिन NDA बिहार में डबल इंजन सरकार कि विकास के मुद्दे, जंगल राज के साथ साथ राष्ट्रबाद का मुद्दा ज़ोर शोर से उठाने की कोशिश कर चुनाव में विरोधियों पर बढ़त बनाने की कोशिश तेज कर सकता है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *