बदल गया ट्रैन यात्रा करने का नियम, सोते हुए यात्री को जगाकर TTE चेक नहीं कर सकता रेल टिकट

सोते हुए यात्री को जगाकर TTE चेक नहीं कर सकता रेल टिकट, जानिए क्या कहता है रेलवे का नियम? अगर आप भी ट्रेन से यात्रा करते हैं तो आपको रेलवे के नियमों के बारे में जानकारी रहने से काफी आसानी हो सकती है. अगर आप ट्रेन से लंबी यात्रा कर रहे हैं तो आपको यह पता होना चाहिए कि ट्रेन में टीटीई रात 10:00 बजे से लेकर सुबह 6:00 बजे तक आपको सोते हुए में से जगाकर आपका टिकट चेक नहीं कर सकता.

अगर आपने रात में ही यात्रा शुरू की है और रात 10:00 बजे से सुबह 6:00 बजे के बीच आप किसी स्टेशन पर ट्रेन पर चढ़ते हैं, तब ड्यूटी पर तैनात टीटीई आपका टिकट चेक कर सकता है. रेलवे के नियमों के मुताबिक ट्रेन में यात्रा करते समय ट्रैवल टिकट एग्जामिनर या टीटीई ही आपका टिकट चेक कर सकता है.

रेलवे सुरक्षा बल (RPF) या जीआरपी का जवान या कोई भी अन्य व्यक्ति आपका टिकट चेक नहीं कर सकता. अगर आप भी रेल से सफर करने में आराम महसूस करते हैं तो आपको रेलवे के इन पांच नियमों के बारे में जरूर जानना चाहिए. अगर आपको भारतीय रेल के इन नियमों की जानकारी रहेगी तो आपका सफर सुविधाजनक और आरामदेह रहेगा.

ट्रेन में सफर करने वालों के साथ अक्सर होता है कि आपकी ट्रेन छूट जाती है या ट्रेवल प्लान बदलने की वजह से आप एक-दो स्टॉप आगे से ट्रेन पकड़ना चाहते हैं. अगर रेलवे में यात्रा के लिए आपके पास रिजर्व्ड टिकट है तो आप एक घंटे बाद तक या अगले स्टापेज से ट्रेन पकड़ सकते हैं. टीटीई तब तक आपकी रिजर्व सीट किसी और को नहीं दे सकता.

अगर आपने दिल्ली से पटना के लिए ट्रेन टिकट बुक कराया है और आप किसी वजह से अपनी सीट पर नहीं पहुंचे तो टीटीई तुरंत वह सीट किसी दूसरे यात्री को नहीं दे सकता. उसे कम से कम दो स्टेशन या एक घंटे तक आपके आने का इंतजार करना होगा. रेलवे के नियमों के मुताबिक कई बार पैसेंजर्स बोर्डिंग स्टेशन से आगे से भी ट्रेन पकड़ सकते हैं.

अपने यह भी देखा होगा कि कई बार ट्रेन में RPF और GRP के जवान आकर यात्रियों का टिकट चेक करने लगते हैं, इस दौरान वह यात्रियों से बदतमीजी करते हुए जमकर वसूली भी करते हैं. रेलवे के नियमों के तहत यह गलत है. आप इसकी शिकायत कर सकते हैं.

अगर आपने रिजर्व टिकट लिया है और आपको मिडल बर्थ मिला है तो ट्रेन शुरू होते ही इसे नहीं खोल सकते. रेलवे के नियम के मुताबिक मिडल बर्थ वाला यात्री अपनी बर्थ पर 10 बजे रात से सुबह 6 बजे तक ही सो सकता है. रात 10 से पहले अगर कोई यात्री मिडल बर्थ खोलना चाहे, तो आप उसे रोक सकते हैं.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.