नीतीश कुमार विकास, बेरोजगारी, शिक्षा, स्वास्थ्य और गरीबी पर बात नहीं करना चाहते : तेजस्वी

बिहार में चुनावी सरगर्मी धीरे-धीरे तेज होती जा रही है। तमाम दलों के प्रत्याशी धीरे-धीरे नामांकन की ओर आगे बढ़ रहे हैं और प्रचार-प्रसार भी तेजी से चल रहा है। इसके साथ ही कई दलों के बड़े नेता लगातार एक-दूसरे की राजनीति पर टिप्पणियां भी कर रहे हैं। वो चाहे सुशील मोदी हो, मनोज झा हो या फिर तेजस्वी यादव। सभी लोग एक-दूसरे पर जमकर बरस रहे हैं।

सीएम नीतीश अब थक चुके हैं: तेजस्वी

इसी बीच आज नेता प्रतिपक्ष रहे तेजस्वी यादव ने मीडिया से बात करते हुए बिहार के सीएम नीतीश कुमार के बारे में कहा कि नीतीश कुमार अब थक चुके हैं। वे अब राज्य को संभाल नहीं पा रहे हैं। विकास, बेरोजगारी, शिक्षा, स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे और गरीबी के बारे में वे बात ही नहीं करना चाहते हैं। वो कहते हैं कि बिहार एक भूमि से घिरा राज्य है, इसलिए यहां उद्योगों का निर्माण नहीं किया जा सकता है। इसका मतलब है कि रोजगार का सृजन भी नहीं होगा।

सुशील मोदी ने भी लगाया था तेजस्वी पर आरोप

इससे पहले सुशील मोदी भी तेजस्वी यादव के नामांकन पर उनकी ओर से तथ्यों को छिपाने के आरोप लगा चुके हैं। इसके जवाब में मनोज झा ने सुशील मोदी को कहा कि वो अपने बारे में सोचें। तेजस्वी ने अपने हलफनामे में जो भी जानकारी दी, इनकमटैक्स के पास उसकी पूरी जानकारी है, सुशील मोदी इनकम टैक्स से बात कर लें। वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा ने कहा कि सुशील मोदी पहले अपने 15 सालों का हिसाब दें। उनका कहना है कि भाजपा के पास कोई तथ्य नहीं है, ये चुनाव के समय बस अनर्गल आरोप लगा रहे हैं।

आज दूसरे चरण के नामांकन का आखिरी दिन  बिहार में चुनाव प्रचार और आरोप-प्रत्यारोप धड़ल्ले से चल रहा है। सभी दलों के नेता जनता को लुभाने की कोशिश में लगे हुए हैं। आज बिहार विधानसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण के नामांकन का आखिरी दिन है। इस बार बिहार चुनाव में कुल तीन चरणों में चुनाव होना है। पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर, दूसरे चरण का मतदान 3 नवंबर और तीसरे एवं आखिरी चरण मतदान 7 नवंबर को संपन्न होगा। इसके बाद 10 नवंबर को चुनाव के नतीजों का ऐलान कर दिया जाएगा

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *