होली के दिन हुआ था बिहार के मधुबनी में नरसं’हार, 2021 में एक ही परिवार के 5 भाईयों को मा’र डाला

बीते साल अर्थात 2021 को होली के दिन मधुबनी के बेनीपट्टी के महमदपुर गांव में यह हत्याकांड हुआ था। इसमें एक पक्ष के 10-12 लोगों ने दूसरे पक्ष के लोगों पर दिनदहाड़े गोलियां बरसा दी। इस घटना में दूसरे पक्ष के तीन लोगों की मौत घटनास्थल से अस्पताल ले जाने के क्रम में हो गई थी। तीन और घायलों में एक की मौत अगले दिन पटना में हुई। पीड़ित पक्ष के तीन सहोदर भाई और उनके दो चचेरे भाई की मौत हो चुकी है।

सुरेंद्र सिंह (पीड़ित पक्ष) और मधुबनी कांड का तिसरा आरोपीत भोला सिंह एवम् अन्य राजपूत परिवार वालो से वर्षों से तालाब का विवाद चल रहा था । एकदिन भोला सिंह का करीबी और प्रविण झा का ड्राइवर दलित समाज के व्यक्ति मुकेश साफी को किसी कारणवश पीड़ित पक्ष सुरेंद्र सिंह के परिवार वालो ने मारापीटा , गाली दिया तो मुकेश साफी ने sc/st act के तहत पीड़ित परिवार पर मुकद्दमा कर दिया जिसमे सुरेंद्र सिंह (पीड़ित पक्ष) का एक लड़का संजय सिंह जेल चला गया जो हाल-फिलहाल इस हत्याकांडा के बाद जेल से निकला है । फिर सुरेंद्र सिंह के परिवार ने भी काउंटर मुकद्दमा कर दिया जिसमे भोला सिंह , प्रवीण झा सहती कई लोगों को नामजद आरोपी बनाया गया । पुलिस जांच-पड़ताल मे काउंटर केस सही नहीं पाया गया जिस वजह से पुलिस ने भोला सिंह , प्रवीण झा एवम् अन्य को गिरफ्तार नहीं किया

…इसके बाद #बिहार मे पंचायत चुनाव निकट आ गए प्रवीण झा अपने क्षेत्र मे पंचायत चुनाव मे मुखिया प्रत्याशी के रुप मे घोषणा कर चुका था की वो चुनाव लड़ेगा …होली के दिन चुनाव निकट देखते हुऐ प्रवीण झा ने अपने दोस्तों को होली मिलन समारोह मे घर बुलाया सबकुछ अच्छा चल रहा था तभी मित्र होने के नाते भोला सिंह का फोन आया उसने प्रवीण झा को बताया कि चुनावी एवम् तलाब संबंधित बहसबाजी होने के कारण सुरेंद्र सिंह के सुपुत्र मुझे रास्ते मे घेर कर मार रहे है । पंचायत चुनाव को देखते हुऐ प्रवीण झा अपने ही पंचायत के झगड़े मे नहीं फंसना चाहता था इसलिए वो अपने छोटे भाई नवीन झा और अपने मित्र चंदन झा को घटनास्थल पर भेजा ताकि मामला ठंडा कर भोला सिंह को सुरक्षित घर पहुंचा दे परंतु सुरेंद्र सिंह के पुत्रों ने प्रवीण झा के भाई नवीन झा , चंदन झा की भी पिटाई कर दी जिसमे नवीन झा बुरी तरह घायल हो गया । इसकी सुचना प्रवीण झा को मिली और क्रोध मे ओ भी अपने समर्थकों के साथ घटनास्थल पर गया जिसके बाद वहाँ क्या हुआ मरने और मारने वालो के अलावा कोइ नहीं जानता है परंतु इसका परिणाम हमसभी के सामने है ।

आपको एक बात और स्पष्ट कर दूं कि पीड़ित परिवार सुरेंद्र सिंह के घर पर चढ़कर गोलीबारी नहीं हुई थी घटनास्थल से सुरेंद्र सिंह के घर की दूरी लगभग 100-150 मिटर है ….दरअसल मारपीट – गोलीबारी दोनों तरफ से हुई थी परंतु अफसोस एक पक्ष को गोली लगी और वो मर गए और दूसरे पक्ष को मारपीटा गया इसलिए वो जख्मी हालत मे बच गए । अभी तक प्रवीण झा के भाई नवीन झा की गिरफ्तारी नहीं हुई है और शायद वो फरार होकर कहीं अपना ईलाज करवा रहा है ……लोग कर रहे है पीड़ित पक्ष सुरेंद्र सिंह एवम् उसका परिवार देश की रक्षा कर रहा था तो आपको जानकारी के लिए बता दूं सुरेंद्र सिंह खुद भी भारतीय सेना मे थे परंतु उन्हें 1993 मे सेना से निकाल दिया गया था । सन् 1993 के बाद वो कभी ड्यूटी बजाने शरहद पर नहीं गयें क्यों नहीं गए इसकी पुष्टि मै नहीं कर सकता हूँ । ह सुरेंद्र सिंह के एक पुत्र भी B.S.F मे थे जो इस हत्याकांडा मे मारे गए ….

और अगर प्रवीण झा के परिवार की बात की जाऐ तो प्रवीण झा के पिता घनश्याम झा भी C.R.P.F मे थे और ओ अपनी सेवा जम्मू-कश्मीर मे देते हुऐ सन् 2016 मे रिटायर हुए थे । आज मधुबनी हत्याकांडा के बाद प्रवीण झा , प्रवीण झा के पिता घनश्याम झा , माता सुनैना देवी जेल मे है और प्रवीण झा का छोटा भाई नवीण झा फरार रहकर अपना ईलाज करवा रहा है । आपको बता दूं कि प्रवीण झा के घर से घटना स्थल की दूरी 2-3 किलोमीटर की है जरा आप खुद बताइऐ चंद सेंकेडों मे जहां 5 लोगो की निर्मम हत्या हो जाती है वहां प्रवीण झा के बुजुर्ग माँ-बाप जिनकी उम्र 62-65 वर्ष से भी अधिक वो घटनास्थल पर कितनी तेजी से दौड़कर गोली मारे होंगे यह आश्चर्य की बात है ।

मधुबनी हत्याकांडा के मुकद्दमे मे 35 लोगों के नाम मे सिर्फ एक बुजुर्ग महिला नामजद है जिनका नाम सुनैना देवी उम्र लगभग 62 वर्ष है जो की प्रवीण झा की माँ है । मै आपको यह भी बता दूं प्रवीण झा पर चार मुकद्दमे दर्ज है जिसमे एक मुकद्दमे हत्याकांडा के लिए दर्ज हुआ , दुसरा मुकद्दमा कुर्की जप्ती के दौरान मिली चिड़ियामार बंदूक मे आर्म्स एक्ट और तीसरा सुरेंद्र सिंह (पीड़ित परिवार) ने ही आपसी वर्चस्व एवम् जमीनी विवाद के कारण एक मुकद्दमा किया था और एक मुकद्दमा बेनिपट्टी थाना के पुर्व दरोगा ने सन् 2020 मे किया था पुलिस कार्य मे बाधा डालने के संदर्भ मे । अब अगर पीड़ित परिवार की बात करे तो सुरेंद्र सिंह के परिवार पर आर्म्स एक्ट , एस एसटी एक्ट सहित दर्जनों मुकद्दमे भी दर्ज है ……

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.