मई 2020 तक बिहार में सरकारी मास्टरों की बम्पर बहाली, 1 लाख लोगों को मिलेगी नौकरी

राज्य में लगभग एक लाख शिक्षकों की नियुक्ति मई के अंत तक होगी। सरकार ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने के पहले बहाली प्रक्रिया पूरी करने का लक्ष्य रखा है। प्रारंभिक स्कूलों की कक्षा एक से आठ तक के लिए 90763 शिक्षकों की बहाली होनी है, जबकि हाईस्कूलों में लगभग 35 हजार शिक्षक बहाल होने हैं। हाईस्कूलों में वर्तमान में छठे चरण के तहत लगभग 10 हजार शिक्षक बहाल होंगे। एनआईओएस से 18 माह का डीएलएड कोर्स करने वाले अभ्यर्थियों को प्रारंभिक शिक्षक बहाली में शामिल करने के हाईकोर्ट के आदेश के कारण फिलहाल सरकार ने बहाली प्रक्रिया पर रोक लगा रखी है। हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील की तैयारी है।

20 मार्च तक एलपीए दायर करने की तैयारी में शिक्षा विभाग : बता दें की अभी तक शिक्षा विभाग को एनसीटीई के द्वारा 18 माह वाले डीएलएड से संबंधित मान्यता से संबंधित किसी तरह का कोई आदेश नहीं मिला है। एनसीटीई ने शिक्षा विभाग को 2 साल के डीएलएड कोर्स वालों को ही शिक्षक बनाने के लिए कहा था। वहीं 21 जनवरी को हाईकोर्ट ने 18 माह के डीएलएड प्रशिक्षित को शिक्षक नियोजन में शामिल कराने पर फैसला दिया था। जबकि बताया जा रहा है कि एनआईओएस से 18 माह का डीएलएड प्रशिक्षित को मान्यता देने संबंधित किसी प्रकार का आदेश जारी नहीं हुआ है अतः अब एनसीटीई से बात करने के बाद शिक्षा विभाग 20 मार्च तक हाईकोर्ट में एलपीए दायर करेगा और यह आदेश लेगा कि प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षक नियोजन की प्रक्रिया पूरी की जाए।

2 साल का डीएलएड प्रशिक्षित होना अनिवार्य : नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन शिक्षा विभाग आदेश निर्गत करते हुए कहा था की डीएलएड के मामले में शिक्षक अभ्यर्थी को न्यूनतम 2 साल वाले डीएलएड कोर्स में प्रशिक्षित होना चाहिए एनसीटी का हवाला देते हुए शिक्षा विभाग ने सभी डीपीओ सहित नियोजन इकाइयों को पत्र भेजा था कि 18 माह का डीएलएड कोर्स वालों को शिक्षक नियोजन में शामिल नहीं करें बता दें की एनआईओएस से राज्य के लगभग 240000 लोगों ने 18 माह का डीएलएड कोर्स किया था इसमें से दो लाख फिलहाल निजी स्कूलों में शिक्षक हैं प्राथमिक शिक्षा निदेशक डॉ रंजीत कुमार सिंह ने बताया है कि एनसीटीई अगर 18 माह वाले डीएलएड कोर्स के लिए कोई मान्यता संबंधी पत्र देता है तो फिर उस पर विचार किया जाएगा

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *