शिवसेना के बाग़ी MLA एकनाथ शिंदे ने CM उद्धव ठाकरे को लिखा ख़त, ​आपने हमें कभी अपना समझा ही नहीं

PATNA- एकनाथ शिंदे शिवसेना के कई विधायको के साथ गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में हैं. यह ख़त संजय शिरसाट ने लिखा है. एकनाथ ने इस ख़त को ट्विटर पर शेयर किया है और लिखा है कि ये विधायकों की भावना है.ख़त में लिखा है- असल मायनों में कल मातोश्री के दरवाज़े खुले. ये दरवाज़े पिछले ढाई साल से बंद थे. हम शिवसेना के विधायक हैं लेकिन फिर भी ये दरवाज़े हमारे लिए भी बंद ते.हमें आपके आस-पास के लोगों को मनाना पड़ता था कि वे आपसे हमारी मुलाक़ात करवा दें. जो लोग विधानसभा या राज्यसभा गए, वे हमारी वजह से वहाँ पहुँचे. उन्होंने हमें पूरी तरह से दरकिनार करते हुए विधान परिषद और राज्यसभा चुनाव के लिए रणनीति बनाई.”

पत्र में आगे लिखा गया है, “हमें आपसे वर्षा या मंत्रालय में कभी भी मिलने का मौक़ा नहीं मिला. लेकिन एकनाथ शिंदे वो शख़्स थे जिनके दरवाज़े हमारे लिए हमेशा खुले थे. उन्होंने हमें हमेशा सुना. हमने ही एकनाथ शिंदे से ये फ़ैसला, हमारे लिए लेने को कहा.”“भले ही हिंदुत्व शिवसेना का एजेंडा है लेकिन जब आदित्य ठाकरे अयोध्या जा रहे थे तो उन्होंने हमे अपने साथ अयोध्या जाने से रोक दिया. हममे से कई लोगों को व्यक्तिगत तौर पर फ़ोन करके यात्रा पर ना जाने के लिए कहा गया. हम पहले से ही चेक-इन कर चुके थे और विमान में थे, तब आपने एकनाथ शिंदे को फ़ोन करके कहा कि वे विधायकों को अयोध्या जाने से रोक दें.”

चिट्ठी में आगे लिखा गया है कि हम आपसे नहीं मिल सकते थे लेकिन कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विधायकों की आप तक पहुँच थी. वे अपने निर्वाचन क्षेत्रों में काम करने, वित्तीय सहायता के लिए और दूसरे कामों के लिए पूरी तरह सक्षम थे. वहीं हमारे निर्वाचन क्षेत्र के लोग हमसे सवाल किया करते थे कि कैसे हमारे मूल विरोधी (कांग्रेस और राकांपा) अपने क्षेत्र में विकास कर रहे हैं लेकिन हम नहीं… और हमारे पास इसका कोई जवाब नहीं होता था.आपका कल का भाषण बेहद भावनात्मक था. लेकिन उसमें हमारे सवालों के जवाब नहीं थे. इसलिए मैं आपको अपनी भावनाओं से अवगत कराने के लिए यह ख़त लिख रहा हूं.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.