पटना की सड़कों पर दिनभर होता रहा नं’गा नाच, बंद समर्थकों ने गाड़ियां तो’ड़ीं, राहगीरों को पी’टा

नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में गुरुवार को बिहार बंद के दौरान राजधानी में कई जगहों पर जाप और वीआईपी कार्यकर्ता हिं’सक दिखे। जाप कार्यकर्ताओं ने कई इलाकों में आ’गजनी और गाड़ियों में तो’ड़फोड़ की। राजेंद्रनगर, आरएन सिंह मोड़ और आसपास के इलाके में समर्थक ज्यादा उ’ग्र दिखे। टर्मिनल के पास जमकर हं’गामा किया। वाहनों का आवागमन रोक दिया। रोड एंबुलेंस में आ’ग लगाने की कोशिश की और उसका शीशा तो’ड़ दिया। आरएन सिंह मोड़ के पास स्कूली बस को रोक लिया और हं’गामा करने लगे। कई अन्य इलाकों में वाहनों के शीशे तो’ड़े गए।

जाप समर्थकों ने पीएमसीएच के शिशु रोग विभाग के डॉक्टर राकेश कुमार को पीरबहोर थाने से ठीक पहले पुलिसकर्मियों के सामने रोक लिया और उनकी कार पर ला’ठी-डं’डे ब’रसाने लगे। डॉ. राकेश अपनी पत्नी और एक अन्य डॉक्टर के साथ पीएमसीएच जा रहे थे। उनकी कार का शीशा पूरी तरह टू’ट गया और डॉक्टर घा’यल होते-होते बचे। डॉक्टर ने बाद में पीरबहोर थाने में जाप कार्यकर्ताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। अशोक राजपथ पर जाप के छात्र संगठन के कार्यकर्ताओं ने कई वाहनों में तो’ड़फोड़ की। सरकारी वाहनों को जमकर निशाना बनाया। इस दौरान कई वाहन चालक ज’ख्मी भी हो गए। एग्जीबिशन रोड में भी बंद समर्थकों ने जमकर ब’वाल किया। रामगुलाम चौक के पास स्थित एक होटल में समर्थकों ने तो’ड़फोड़ की। कंकड़बाग व अशोक राजपथ में राहगीरों को पी’टा।

बंद समर्थकों पर कोतवाली में एक, पीरबहोर में 7 को नामजद करते हुए दो व शास्त्रीनगर थाने में 15 को नामजद करते हुए दो केस दर्ज किया गया। कोतवाली थाने में जाप नेता पप्पू यादव, जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया, माले के राज्य सचिव कुणाल, कांग्रेस विधायक शकील अहमद, द ग्रेट भीम आर्मी के अमर आजाद सहित 20 पर नामजद एफआईआर दर्ज की गई है। 250 अज्ञात पर भी प्राथमिकी की गई है।

लगभग चार घंटे तक डाकबंगला चौराहा बंद रहा। वामपंथी पार्टियां, उनके छात्र संगठन, जाप, वीआईपी, हम पार्टियों के हजारों कार्यकर्ता करीब 10 बजे डाक बंगला चौराहा पहुंच गए थे और लगभग दो बजे तक वहां जुटे रहे। डाकबंगला चौराहा की तरफ आने वाले सभी मार्गों को डायवर्ट कर दिया गया था। इस दौरान पटना जंक्शन से आने वाले और पटना जंक्शन को जाने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

सीएए और एनआरसी के पक्ष में भाजपा नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री डा. संजय पासवान अपने समर्थकों के साथ पहुंच गए। कोतवाली पुलिस ने उन्हें डाकबंगला चौराहा पहुंचने से पहले ही रोक लिया, वरना दूसरी तरफ बंद समर्थक उ’ग्र होकर देख लेने की मुद्रा में थे। थोड़ी ही देर बाद एबीवीपी के छात्र नेता डाकबंगला चौराह पहुंच सीएए और एनआरसी के पक्ष में नारेबाजी करने लगे। पुलिस पहले से वहां मौजूद थी और सभी को समझा बुझाकर हटा दी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *