140 ट्रेनें शुरू करेगा रेलवे, पटना से वाराणसी के लिए कल से चलेगी जनशताब्दी एक्सप्रेस

PATNA : कोरोना काल में बंद पड़ी करीब 70 जोड़ी ट्रेनों का परिचालन रेलवे धीरे-धीरे शुरू कर रहा है. अप्रैल महीने में रेलवे की अधिकांश ट्रेनें अपने पूर्व निर्धारित समय के हिसाब से चलनी शुरू हो जाएंगी. इसी क्रम में पूर्व मध्य रेलवे ने वाराणसी और पटना जंक्शन के बीच चलने वाली जनशताब्दी एक्सप्रेस का परिचालन शुरू करने का ऐलान किया है. यह ट्रेन वाराणसी के मंडुआडीह से चलकर पटना जंक्शन तक पहुंचती है. बीच में इसका ठहराव केवल वाराणसी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन, दिलदारनगर, बक्सर और आरा जंक्शन पर ही है. 1 साल से बंद यह ट्रेन फिर से पटरी पर दौड़ने लगेगी. इसका परिचालन शुरू हो जाने से बिहार और यूपी के बीच आना-जाना आसान हो जाएगा.

इस ट्रेन से वाराणसी के अलावा उत्तर प्रदेश के गाजीपुर और बिहार के बक्सर, आरा ,पटना और अन्य जिलों के यात्रियों को काफी फायदा होगा. कोरोना काल में रेलवे ने ट्रेनों के परिचालन को लेकर कुछ बदलाव किए हैं. इसके तहत द्वितीय श्रेणी के साधारण कोच की सीटें भी आरक्षित कर दी हैं. इस कारण यात्रा से कुछ देर पहले कार्यक्रम तय करने वाले लोगों को टिकट मिलने में परेशानी हो रही है. पटना-वाराणसी जनशताब्दी एक्सप्रेस के शुरू हो जाने से यह समस्या काफी हद तक दूर हो जाने की संभावना है. क्योंकि इस ट्रेन में यात्रा के 6 घंटे पहले तक यात्रियों को टिकट मिल जाता है.

रांची और हावड़ा जनशताब्दी शुरू हो चुकी है : पूर्व मध्य रेलवे इससे पहले पटना जंक्शन से चलने वाली दो अन्य जनशताब्दी एक्सप्रेस का परिचालन शुरू कर चुका है. इसमें पटना-रांची और पटना-हावड़ा जनशताब्दी एक्सप्रेस शामिल है. पटना से यह तीसरी जनशताब्दी भी 31 मार्च से चलने लगेगी. इस ट्रेन में सभी सीटें रिजर्वेशन कोटा की होती हैं. इसमें साधारण श्रेणी के अलावा एसी चेयर कार की सीटें भी उपलब्ध होंगी. इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह ट्रेन कम समय में डेस्टिनेशन तक पहुंच जाती है. इस ट्रेन के लिए आईआरसीटीसी द्वारा टिकटों की बुकिंग शुरू की जा चुकी है.

अगर आप हमारी आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप हमें 8292560971 पर गुगल पे या पेटीएम कर सकते हैं…. डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *