पवन सिंह के बाद चुनावी मैदान में उत्तरी उनकी माँ, कारकाट से उपेंद्र कुशवाहा के खिलाफ कराया नॉमिनेशन

काराकाट से गुपचुप तरीके से पवन सिंह की मां ने भरा नामांकन, आखिर क्या है इसकी वजह?

पिछले एक महीने से भोजपुरी के पावर स्टार कहे जाने वाले पवन सिंह चर्चा में है. कारण यह है कि पवन सिंह काराकाट लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. हालांकि नामांकन के अंतिम दिन पवन सिंह की मां प्रतिमा देवी ने भी काराकाट सीट से नामांकन कर दिया है. सवाल उठता है कि पवन सिंह की माता ने आखिर नामांकन क्यों किया? बता दें कि 9 मई को पवन सिंह ने सासाराम के समाहरणालय में अपना नामांकन दाखिल किया था लेकिन आज 14 मई को उनकी माता प्रतिमा देवी ने भी नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है.

प्रतिमा देवी 10-12 लोगों के साथ अंतिम समय में समाहरणालय में पहुंची और चुपचाप नामांकन पत्र दाखिल करके चली गई. इस दौरान मीडिया के समक्ष पूरी गोपनीयता रखी गई. मीडिया को इसकी कानों कान खबर न हो, इसकी पूरी व्यवस्था की गई. पहले दो लोगों के साथ प्रतिमा देवी ने परिसर में प्रवेश की. बाद में धीरे-धीरे सभी प्रस्तावक समाहरणालय के परिसर में पहुंच गए तथा अपना नामांकन दाखिल कर चुपके से निकल गईं. इस दौरान किसी मीडियाकर्मी से उन्होंने बातचीत नहीं की.

सवाल उठता है कि भोजपुरी के पावर स्टार कहे जाने वाले पवन सिंह की मां ने अचानक नामांकन क्यों दाखिल किया? जानकार लोगों का कहना है कि पवन सिंह ने अपनी मा का नामांकन इसलिए कराया है कि अगर विषम परिस्थिति में उनका नामांकन रद्द हो जाता है तो मा के नाम पर वे चुनाव में बने रह सकते हैं. कुछ लोगों ने दबी जुबान से बताया कि निर्दलीय प्रत्याशियों को चुनाव आयोग द्वारा सीमित संसाधन का उपयोग करने के निर्देश दिए जाते हैं. संभवत: चुनाव के दौरान समुचित संसाधन के लिए ही अपनी माता का नामांकन कराया गया हो. फिलहाल उनकी माता का नामांकन चर्चा का विषय बना हुआ है.

काराकाट लोकसभा क्षेत्र में एक जून को मतदान होना है. पहले से ही एनडीए के प्रत्याशी उपेंद्र कुशवाहा मैदान में है. साथ ही माले के राजाराम सिंह भी चुनाव प्रचार कर रहे हैं. वैसे में पवन सिंह के आने से मामला त्रिकोणीय हो गया है. इसी बीच उनकी माता प्रतिमा देवी ने भी नामांकन कर दिया

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *