पेट्रोल-डीजल पर अधिक टैक्स लगाने से बंपर कमाई, मालामाल हुआ मोदी सरकार और तेल कंपनियां

पेट्रोल-डीजल पर ज्यादा टैक्स से सरकार, कंपनियों ने 3 माह में 25 हजार करोड़ ज्यादा कमाएआम आदमी: कच्चे तेल की कीमतों में कमी के बावजूद 10 रु. प्रति लीटर ज्यादा चुकाने पड़ रहे हैं

कोरोनाकाल में जब लोग आर्थिक संकट में थे, तब सरकार और तेल कंपनियां कच्चे तेल की कीमतों में आई कमी का फायदा ग्राहकों को देने के बजाय अपनी जेबें भर रही थीं। सितंबर में समाप्त तिमाही में तेल कंपनियों का शुद्ध मुनाफा तीन गुना बढ़कर 10,951 करोड़ हो गया, वहीं सरकार को टैक्स के रूप में 18,741 करोड़ रुपए अतिरिक्त हासिल हुए।

पेट्रोलियम उत्पादों में 80% लागत कच्चे तेल की होती है। पिछले साल जुलाई से सितंबर तिमाही में भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की प्रति बैरल लागत 4,100 से 4,400 रु. के बीच थी, यह अप्रैल-मई में 2,000 रु. प्रति बैरल तक आ गई थी। उस समय पेट्रोल-डीजल की कीमत कम करने के बजाय सरकार ने 6 मई से पेट्रोल पर 10 रु. और डीजल पर 13 रु. प्रति लीटर अतिरिक्त एक्साइज ड्यूटी लगा दी। यह अब तक लागू है। कच्चे तेल की कीमतें 3,000 रु. के आसपास हैं, जो 2019 की तुलना में 1000 रु. प्रति बैरल कम है। इसके बाद भी लोगों को पेट्रोल पर 10 रु. अधिक चुकाने पड़ रहे हैं। वहीं, डीजल की कीमतें 64 रु. से बढ़कर 75 से 76 रु. प्रति लीटर हो गई हैं।

बढ़े टैक्स से सरकार को जहां सितंबर 2020 तिमाही में अतिरिक्त 18,741 करोड़ रुपए की एक्साइज ड्यूटी मिली, वहीं देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी इंडियन आॅयल का मुनाफा सितंबर 2019 तिमाही के 563.42 करोड़ रु. से 10 गुना से अधिक बढ़कर 6,227 करोड़ रु. हो गया। एचपीसीएल का मुनाफा 1,052 करोड़ रु. से बढ़कर 2,477 करोड़ और बीपीसीएल का 1,708 करोड़ से बढ़कर 2247 करोड़ रु. हो गया। पूरी तिमाही के दौरान यानी 92 दिन तक तेल कंपनियों ने भाव स्थिर रखे, जबकि 13 दिन कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज हुई। सितंबर के आखिर में सिर्फ 7 दिन कीमत में मामूली कमी की गई।

एक सरकारी तेल कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि तेल कंपनियों के मुनाफा कमाने में कोई बुराई नहीं है।
एक साल में कच्चा तेल सस्ता हुआ, जबकि पेट्रोल-डीजल महंगे

कंपनियां: इंडियन आॅयल, बीपीसीएल, एचपीसीएल का लाभ 3,323 करोड़ से 10,951 करोड़ रु. हुआ, सरकार: 55,733 करोड़ रु. टैक्स लिया, पिछले साल की समान तिमाही से 18,741 करोड़ रु. ज्यादा

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *