पायलट मोनिका तुम्हे सलाम, पटना में जलते विमान को सुरक्षित उतार कर असंभव को कर दिखाया संभव

पटना से दिल्ली जा रहे स्पाइसजेट के विमान में टेकआ करते ही पक्षी टकराया…भड़की आग, टेकऑफ के बाद ही विमान के लेफ्ट इंजन में आग लग गई। लैंडिंग के बाद आग बुझाई गई और यात्रियों को निकाला गया। ये वो मोनिका हैं, जिन्होंने जलते विमान को सुरक्षित उतार कर पटना में बड़े हादसे को टाला, 19 मिनट तक हवा में अटकी रहीं सासें : स्पाइसजेट की दिल्ली की फ्लाइट एसजी 723 के पटना एयरपाेर्ट से रविवार काे दोपहर 12.03 बजे टेकआफ करने के थाेड़ी देर बाद ही उसके इंजन नंबर वन में बर्ड हीटिंग हुई। बर्ड हिट हाेने की आवाज कैप्टन माेनिका खन्ना और काे पायलट बलप्रीत सिंह भाटिया ने सुनी। इसके बाद फाैरन एटीसी ने अप्राेच कंट्राेल से कैप्टन और काे-पायलट काे मैसेज दिया कि लेफ्ट इंजन से धुआं निकल रहा है और आग की लपटें निकल रही हैं। पायलट, काे-पायलट ने SOP के तहत क्विक रिसर्च हैंड बुक देखा और एसऔपी के तहत उस इंजन काे बंद कर दिया जिससे धुआं ओर आग निकल रही थी। सर्विस फ्लाइट में दाे इंजन इसलिए दिया जाता है कि किसी तरह की अनहाेनी हाेने पर एक इंजन पर ही फ्लाइट की सेफ लैंडिंग कराई जाए। सिर्फ लड़ाकू विमान में एक इंजन हाेता है इसलिए इसके फेल हाेने पर पायलट की परेशानी बढ़ जाती है।

एक इंजन में लगी आग, पायलट ने उसे बंद कर 2000 फीट की ऊंचाई से विमान को रनवे पर उतारा, 185 यात्रियों की बची जान

पटना में रविवार को बड़ा हादसा टला। पटना एयरपाेर्ट से दिल्ली जा रहा स्पाइजेट का विमान टेकअाफ करते ही पंक्षी से टकरा गया। इससे लेफ्ट इंजन में आग लग गई। उस वक्त विमान 2000 फीट की ऊंचाई पर था। पायलट कैप्टन माेनिका ने सूझबूझ का परिचय देते हुए सबसे पहले जिस इंजन में आग लगी थी उसे बंद किया और विमान को सुरक्षित रनवे पर उतार कर 185 यात्रियों की जान बचाई।

स्पाइसजेट की फ्लाइट में आग लगने के बाद इस विमान में सवार यात्री के परिजनों को पटना में 22 साल पहले गर्दनीबाग में हुए विमान हादसे की याद ताजा हो गई। इससे वे लोग और सहम गए थे।

उड़ान भरते ही विमान में तेज धमाका हुआ। सभी यात्री सहम गए। हवा में विमान हिचकाेले खाने लगा। यात्रियाें ने विंडाे से देखा कि एक इंजन से स्पार्क हाे रहा था। इससे अफरातफरी मच गई। पायलट ने कहा कि हालात नियंत्रण में है, पैनिक न हों, हम पटना एयरपोर्ट लौट रहे हैं। 185 यात्रियाें में ज्यादातर पटना के थे। लैंडिंग के बाद 20 लाेगाें ने यात्रा रद्द कर दी। दिल्ली से एक खाली विमान करीब साढ़े पांच बजे पटना पहुंचा और छह बजे 165 यात्रियाें काे लेकर रवाना हुआ।

एयरपाेर्ट प्रशासन काे जैसे ही विमान में अाग की सूचना मिली, इमरजेंसी घाेषित कर दी गई। 40 मिनट तक एयरपाेर्ट पर किसी भी विमान की लैंडिंग और टेकआफ नहीं कराया गया। इस दाैरान करीब चार-पांच फ्लाइट पटना एयरपाेर्ट के आसपास हवा में चक्कर लगाते रहे। एयरपाेर्ट निदेशक अंचल प्रकाश ने कहा कि हमें एटीसी से इसकी जानकारी मिली थी। किसी भी अनहाेनी की आशंका काे देखते हुए रनवे पर एंबुलेंस, फायर टेंडर काे तैनात कर दिया गया था।

जिस वक्त एटीसी को आग की लपटें दिखीं, उस समय विमान करीब 2000 फीट की ऊंचाई पर खगाैल से आगे तक चला गया था। कैप्टन ने जिस इंजन में आग लगी, उसे फाैरन बंद कर दिया और 12 बजकर 22 मिनट पर सुरक्षित इमरजेंसी लैंड कराई। लैंडिंग के वक्त भी विमान से आग की लपटेें उठ रही थीं। विमान फुलवारीशरीफ के कई ऊंचे भवन, पेड़ से टकराते-टकराते बचा। विमान में 185 यात्री, चार क्रू मेंबर, एक पायलट और एक काे-पायलट थे। सभी बाल-बाल बच गए। विमान लैंड हाेने के बाद सभी यात्रियाें ने कैप्टन माेनिका काे शाबाशी देते हुए कहा- वेल डन मैम। आपकी वजह से सबाें की जान बच गई। सूत्राें के अनुसार, डीजीसीए और स्पाइस जेट की टेक्निकल टीम ने घटना के पीछे बर्ड हीटिंग बताया है। डीजीसीए मामले की जांच कर रही है।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.