बी’मार पिता को 2 KM तक ठेले पर लेकर दौड़ता रहा बेटा, नहीं मिली कोई मदद, मौ’त

बीमार पिता को 2 KM तक ठेले पर लेकर दौड़ता रहा बेटा, नहीं मिली कोई मदद, मौ’त

राजस्थान में कोरोना संक्रमण के बीच प्रशासन का अमानवीय पहलू सामने आया है, जहां एक बेटा एंबुलेंस न मिलने पर करीब सवा दो किलोमीटर तक अपने पिता को ठेले पर रखकर भागता रहा. उसके रास्ते में कई बार बेरिकेटिंग भी आई. आलम ऐसा था कि वह कभी पिता को संभालता, तो कभी बेरिकेटिंग को हटाता. इस दौरान पुलिसकर्मी भी उसे मिले लेकिन किसी ने उसकी कोई मदद नहीं की. वहीं, अस्पताल में भी वो अपने बीमार पिता को लेकर डॉक्टरों के पास भागता रहा. लेकिन तब तक उसके पिता की मृत्यु हो गई थी.

मनीष ने कहा कि जब किसी एम्बुलेंस सेवा से कोई जवाब नहीं मिला, तो मैंने अपने पिता को सब्जी वाले ठेले में बिठाया और अस्पताल की ओर चल दिया, जो करीब 2.5 किमी दूर है। मनीष ने बताया कि हालांकि, रास्ते में पुलिसकर्मियों ने कर्फ्यू वाली सड़क पर विभिन्न स्थानों पर लगे बैरिकेड हटा दिए, लेकिन उनमें से किसी ने भी हमारी मदद करने और मेरे पिता को अस्पताल पहुंचाने के बारे में नहीं सोचा।

dailybihar.com, dailybiharlive, dailybihar.com, national news, india news, news in hindi, ।atest news in hindi, बिहार समाचार, bihar news, bihar news in hindi, bihar news hindi NEWS

मृ/तक के एक अन्य रिश्तेदार ने कहा, “मनीष ने अस्पताल जाने के दौरान एक किलोमीटर की दूरी तय की थी, इसके बाद मैंने किसी तरह एक निजी एम्बुलेंस किराए पर ली। उन्होंने दावा किया कि अस्पताल में हम एक कमरे से दूसरे कमरे तक भटकते रहे और अंतत: दोपहर 2.30 बजे उन्हें मृ/त घोषित कर दिया गया।एमबीएस अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ नवीन सक्सेना ने पीड़ित के इलाज में लापरवाही के आरोप का खंडन किया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *