पीएम केयर्स फंड से खरीदे गए वेंटिलेटर की क्वालिटी खराब, राहुल बोले- खतरे में डाली जा रही लोगों की जान

पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में चीन और भारतीय सेना के बीच हुए हिंसक झड़प को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी केंद्र सरकार पर पहले से ही हमलावर है, लेकिन अब राहुल गांधी ने सरकार द्वारा कोरोना मरीजों के इलाज में की जा रही लापरवाही को लेकर भी पीएम मोदी को आड़े हाथों लेना शुरू कर दिया है। एक बार फिर राहुल गांधी ने कोरोना संकट में मरीजों के इलाज को लेकर पीएम पर हमला बोला है। राहुल गांधी ने पीएम केयर फंड के पैसों से खरीदे गए वेंटिलेटर की क्वालिटी पर सवाल उठाते हुए ट्वीट कर कहा कि सरकार लोगों की जान खतरे में डाल रही है, राहुल गांधी ने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाए की पीएम केयर्स फंड का पैसा अच्छे अपकरणों को खरीदने के लिए उपयोग किया जा रहा है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट के साथ HuffPost India की एक रिपोर्ट का भी हवाला दिया है। कांग्रेस नेता ने जिस खबर को लेकर केंद्र पर निशाना साधा है उसकी रिपोर्ट में कहा गया है कि वेंटिलेटर के खर्चे को कम करने के लिए कंपनी ने सॉफ्टवेयर में हेरफेर किया। आपको बता दें, HuffPost India की रिपोर्ट के मुताबिक नोएडा की एक मेडटेक स्टार्टअप एग्वा हेल्थ केयर कंपनी के दो पूर्व कर्मचारियों ने बताया कि कपंनी कम लागत वाले वेंटिलेटर का इस्तेमाल कर रही है और सही नतीजे दिखाने के लिए उसके सॉफ्टवेयर में हेरफेर किया जाता है।

एग्वा वेंटिलेटर का टेस्ट करने पर धांधली का खुलासा हुआ है: रिपोर्ट

रिपोर्ट में आगे दावा किया गया है कि कर्मचारियों के मुताबिक वेंटिलेटर के सॉफ्टवेयर में हेरफेर से दिखाया जाता है कि वास्तव की तुलना में वह मरीजों के फेफड़ों में अधिक ऑक्सीजन पंप कर रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई के प्रतिष्ठित जेजे अस्पताल में डॉक्टरों द्वारा एग्वा वेंटिलेटर का टेस्ट करने पर इस धांधली का खुलासा हुआ है। जेजे अस्पताल को दान के तौर पर 39 एग्वा वेंटिलेटर मिले थे, हालांकि बाद में और वेंटिलेटर आए जिसका मूल्य लिया गया। HuffPost India की रिपोर्ट पर अब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए एक बार फिर पीएम केयर्स फंड के पैसों का मुद्दा उठाया है। बता दें कि राहुल गांधी ने इससे पहले भी पीएम केयर्स फंड को लेकर मांग की थी कि सरकार लोगों के दान का पैसा कहां खर्च कर रही है उसका पूरा विवरण दे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *