बिहार चुनाव: चार दौरों में 12 रैलियों को संबोधित करेंगे प्रधानमंत्री मोदी, CM नीतीश भी रहेंगे साथ

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन यानी एनडीए (NDA) ने अपना रिपोर्ट कार्ड जारी किया है. इसमें बिहार में केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा जो काम किया गये हैं उसका उल्लेख किया गया है. इस मौके पर भाजपा, जदयू और जीतन राम मांझी (Jitan ram Manjhi) की पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) के उपस्थित नेताओं ने एक बार फिर प्रदेश में राजग की सरकार बनने का दावा किया. साथ ही यह भी ऐलान किया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बिहार में 12 चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे. इस मौके पर उपस्थित बिहार भाजपा के चुनाव प्रभारी व महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फड़णवीस (Devendra Fadnavis) ने जानकारी देते हुए बताया कि बिहार में नरेंद्र मोदी की सभी रैली एनडीए की रैली होगी.



फड़णवीस ने बताया कि पहली बार प्रधानमंत्री मोदी 23 अक्टूबर को बिहार आएंगे और सासाराम, गया और  भागलपुर में करेंगे. उनका दूसरा दौरा  28 अक्टूबर को होगा. इस दौरे में वह दरभंगा, मुजफ्फरपुर और पटना में चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे. तीसरा दौरा 1 नवंबर को होगा. इस दौरे में वह छपरा, पूर्वी चंपारण और समस्तीपुर चुनावी रैली को संबोधित करेंगे. वहीं चौथा और आखिरी दौरा 3 नवंबर को होगा. इस दौरान वह पश्चिम चंपारण, सहरसा, अररिया के फ़ारबिसगंज में चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे.

भाजपा नेता ने बताया कि उनकी इन चुनावी सभाओं क दौरान सीएम नीतीश कुमार रहेंगे. जहां सीएम नीतीश नहीं रह पाएंगे वहां जेडीयू के वरिष्ठ नेताओं के साथ हम और VIP के भी वरिष्ठ नेता रहेंगे. इस प्रेस वार्ता में बीजेपी से देवेंद्र फडणवीस के साथ ही केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय राज्य मंत्री नित्यानन्द राय, जेडीयू लीडर संजय झा, हम से दानिश रिज़वान, वीआईपी से विश्वनाथ प्रसाद के साथ बिहार सरकार के मंत्री मंगल पांडेय भी मौजूद थे इस मौके पर नित्यानंद राय ने कहा कि एनडीए भारी बहुमत से सरकार बनाएगी और नीतीश कुमार एक बार फिर मुख्यमंत्री जरूर बनेंगे. उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री और नीतीश कुमार जी के विकास कार्यो से जनता वोट देगी. वहीं जेडीयू नेता संजय झा ने कहा कि राजद अपने 15 साल के शासन पर बात करने से भी भाग रहा है, लेकिन राजद से उनके 15 साल के शासन पर सवाल तो पूछा ही जाएगा. नीतीश कुमार और एनडीए की सरकार जो कमिटमेंट करती है वो पूरा करती है.


वहीं केंद्रीय मंत्री रविशंकस प्रसाद ने कहा कि बिहार के चुनाव के मुद्दे स्पष्ट हैं. हमारी सोच के केंद्र में बिहार का विकास है. एक तरफ़ जनता के विकास की भागीदारी की सोच, दूसरी तरफ़ परिवार के जागीर के विस्तार की सोच है. वे लोग अपने परिवार के विरासत की तस्वीर भी लगाने से परहेज़ कर रहे हैं.
वो अगर विरासत की तस्वीर लगाएंगे तो उन्हें अपहरण, हत्या, घोटाले और लूट की याद आएगी. इसलिये उन्हें अपनी ही विरासत से परहेज़ है

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *