निमंत्रण बिना अचानक कार्यक्रम में में पहुंच गए PM नरेंद्र मोदी, जमकर दिया भाषण

रक्षा उद्योग में भारत को आत्मनिर्भर बनाने पर आयोजित FICCI के वेबिनार में गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाषण दिया। इसमें उन्होंने रक्षा उत्पादन में बढ़ोतरी के लक्ष्य के साथ नई तकनीक भारत में विकसित करने की बात कह कर देश को इस क्षेत्र में मजबूत बनाने की ओर इशारा किया। पीएम के इस भाषण की सोशल मीडिया पर काफी चर्चा भी रही। हालांकि, आश्चर्य में डालने वाली बात यह है कि पीएम मोदी के पहले इस कार्यक्रम में आने की कोई तैयारी नहीं थी। फिक्की का यह इवेंट जब खत्म होने ही वाला था, तब अचानक ऐलान हुआ कि प्रधानमंत्री ने उद्योग जगत के प्रतिनिधियों को संबोधित करने का फैसला किया है।

दरअसल, फिक्की ने इस बार वेबिनार का विषय रक्षा क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने पर रखा था। इसमें रक्षा मंत्रालय के अफसरों के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह गेस्ट के तौर पर बुलाए गए थे। उनके अलावा चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और कुछ अन्य अधिकारी वेबिनार में शामिल हुए। यह करीब एक घंटे का इंटरेक्विटव सेशन था।

जैसे ही यह इवेंट खत्म होने वाला था, अचानक ऐलान हुआ कि पीएम ने अचानक ही वेबिनार में शामिल होने का फैसला किया है। इस बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पीएम को इवेंट की विस्तृत जानकारी दी और आखिर में पीएम मोदी ने कार्यक्रम का अंतिम भाषण दिया। कार्यक्रम में आने के लिए पीएम मोदी का शुक्रिया जताते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि हम में से किसी ने भी उम्मीद नहीं की थी कि प्रधानमंत्री इस सेमिनार का समापन भाषण देंगे।

मोदी ने सेमिनार में क्या कहा? प्रधानमंत्री ने अपने इस अहम भाषण की शुरुआत में ही भारत में रक्षा उत्पादन से जुड़े स्टेक हॉल्डर्स की कार्यक्रम में मौजूदगी पर खुशी जताई। उन्होंने कहा कि यहां हो रहे मंथन से जो परिणाम मिलेंगे उससे, आत्मनिर्भरता के हमारे प्रयासों में तेजी आएगी। पीएम ने कहा कि हमारी सरकार पिछले कुछ सालों से रक्षा क्षेत्र से जुड़ी बेड़ियों को तोड़ने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि हम लगातार इस कोशिश में हैं कि भारत में उत्पादन बढ़े। तकनीक भी देश में ही विकसित हों और प्राइवेट सेक्टर का भी इस क्षेत्र में विस्तार हो। उन्होंने सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की भी जानकारी दी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *