दिल्ली-पटना-हावड़ा मार्ग पर दौड़ेंगी प्राइवेट ट्रेनें, काम शुरू

दिल्ली से मुंबई और दिल्ली से हावड़ा के बीच डेडिकेटेड फ्रेट कॉरीडोर (डीएफसी) चालू होने के बाद इन दोनों मार्गों काे सेमी हाईस्पीड डेडिकेटेड पैसेंजर कॉरीडोर के रूप में विकसित किया जाएगा और उन पर निजी ऑपरेटरों को ट्रेनें चलाने की अनुमति दी जाएगी। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी और बताया रेलवे ने योजना के तहत इस दिशा में काम शुरू किया है।

उन्होंने कहा दिसंबर 2021 के बीच 3 हजार किमी के डीएफसी चालू हो जाएगा। दिल्ली से मुंबई और हावड़ा के मार्ग केवल यात्री गाड़ियों के लिए ही रह जाएगा। उन्होंने कहा कि रेलवे की दिल्ली, मुंबई, चेन्नई एवं कोलकाता को एक दूसरे से जोड़ने वाले ग्रांड क्वार्डिलेटेरल और ग्रांड कोर्ड मार्गों की गति 160 किलोमीटर करने की एक योजना कैबिनेट द्वारा मंजूर की गई है। दिल्ली-मुंबई एवं दिल्ली-हावड़ा मार्गों पर यह काम किया जाएगा।

इसके बाद अन्य मार्गों के लिए तीन डीएफसी और बनाने का काम शुरू होगा। उन्होंने कहा कि ग्रांड क्वार्डिलेटेरल और ग्रांड कोर्ड मार्गों पर रेलवे का 60 प्रतिशत से अधिक यातायात चलता है। दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-हावड़ा मार्गों पर पर्याप्त क्षमता विकसित होने के बाद उन पर निजी ट्रेन ऑपरेटरों को गाड़ी चलाने की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इसमें अभी कई वर्ष लगेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *