‘गरीब लोग के राउर भाषण ना राशन चाहीं’, PM मोदी के भोजपुरी में ट्वीट का राबड़ी ने दिया जवाब

PATNA: पीएम नरेंद्र मोदी ने भोजपुरी में ट्वीट किया था. राशन के बारे में जानकारी दी कि किस तरह से केंद्र सरकार कोरोना संकट में गरीबों को मदद कर रही है. इस पर राबड़ी देवी ने पीएम मोदी के ट्वीट पर पलटवार करते हुए भोजपुरी में ही लिखा कि गरीब लोगों के राउर भाषण ना राशन चाहीं. राबड़ी ने इस तरह से दिया जवाब : राबड़ी ने ट्वीट किया कि ‘’आदरणीय प्रधानमंत्री जी, जून महीना में बिहार में मात्र 35.3% वितरण भईल बा। अब रऊऽआ ई बताऽईं ऐऽसे ग़रीब के दू जून के रोटी मीऽली ? ग़रीब लोग के राऽउर भाषण ना राशन चाऽहीं।‘’

पीएम मोदी के इस ट्वीट पर दिया जवाब : पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित करने के बाद भोजपुरी में ट्वीट किया और लिखा कि’’ई गरीबजन के सम्मान सुनिश्चित करे वाला बा। प्रधानमन्त्री गरीब कल्याण अन्न योजना के आगे बढ़ावला से देश भर के करोडों लोगन के फैदा होई।‘’ इस ट्वीट का ही राबड़ी देवी ने भोजपुरी में जवाब दिया और बिहार सरकार पर निशाना साधा है कि यहां पर राशन वितरण बहुत कम हुआ है.

पीएम मोदी ने किया था कल एलान : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा था कि गरीबों को नवंबर तक मुफ्त अनाज मिलेगा. गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब नवंबर महीने के आखिरी तक कर दिया जायेगा. यानि देश के 80 करोड को लोगों को नवंबर तक मुफ्त अनाज मिलता रहेगा. सरकार द्वारा हर गरीब परिवार के हर सदस्य को हर महीने 5 किलो गेहूं या 5 किलो चावल मुफ्त दिया जायेगा. वहीं हर परिवार को हर महीने एक किलो चना भी मुफ्त दिया जायेगा. इस योजना में सरकार ने 90 हजार करोड रूपये और खर्च करने का फैसला लिया है. पिछले तीन महीने से सरकार मुफ्त अनाज दे रही है. कुल खर्च को जोड दिया जाये तो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में सरकार ने डेढ़ लाख करोड़ रूपये खर्च करने का फैसला लिया है.

अपने संबोधन में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार के इस फैसले को सही तरीके से लागू करने के लिए राज्य सरकारों को भी सहयोग करना होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गरीबों को सही तरीके से मुफ्त अनाज देने के लिए ही वन नेशन-वन राशन कार्ड योजना लागू की गयी है. राज्य सरकारों को इसमें मदद करना चाहिये.प्रधानमंत्री ने देश में आने वाले समय में आ रहे पर्व त्योहारों का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि देश में त्योहारो का सिलसिला शुरू हो रहा है. जुलाई में गुरू पूर्णिया और फिर सावन से लेकर दशहरा-दीवाली और छठी मईया की पूजा. ऐसे में सरकार ने फैसला लिया है कि छठ पूजा तक पूरे देश में 80 करोड़ गरीब लोगों को मुफ्त में अनाज देने का फैसला लिया गया है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *