RCP सिंह को जबरदस्त झटका, दोबारा राज्य सभा नहीं भेजने पर विचार कर रहे है CM नीतीश

राज्यसभा चुनाव : केन्द्रीय मंत्री RCP सिंह के दुबारा राज्यसभा जाने को लेकर संशय..बीजेपी और आरजेडी आलाकमान के निर्णय पर टिकी हैं कई नेताओं की निगाहें….राज्यसभा की 57 सीटों के लिए 10 जून को चुनाव होने वाला है.ये 57 सीटे बिहार एवं झारखंड समेत 15 राज्यों की जुलाई माह में खाली हो रही है.इसमें बिहार की पांच सीटें खाली हो रही है।इस इन पांच सीटों में बीजेपी और जेडीयू कोटे की 2-2 और आरजेडी कोटे की एक सीटें हैं।विधायकों की वर्तमान संख्या की हिसाब से इस चुनाव मे जेडीयू को एक सीट का नुकसान हो सकता है वहीं आरजेडी को एक सीट का फाईदा हो सकता है.वहीं बीजेपी अपनी दो सीटें बरकरार रहेगी.

आरसीपी सिंह को लेकर संशय

जेडीयू के तरफ से केन्द्रीय मंत्री आरसीपी सिंह और शरद यादव की सीटे खाली हो रही है।शरद यादव अब जेडीयू से अलग राह पर हैं वहीं आरसीपी सिंह को दुबारा राज्यसभा भेजे जाने को लेकर संशय है.इस समय जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और केन्द्रीय मंत्री आरसीपी सिंह के बीच के रिश्ते सहज नहीं हैं।ललन सिंह की कोशिश आरसीपी सिंह की राह रोकने की होगी ,आरसीपी सिंह की जगह मनीष वर्मा को राज्यसभा भेजने की चर्चा हो रही है,पर अंतिम फैसला सीएम नीतीश कुमार को लेना है।नीतीश कुमार ने पिछले दिनों पार्टी में किसी तरह की गुटबाजी से इंकार किया था.अब नीतीश कुमार अगर आरसीपी सिंह को दुबारा राज्यसभा भेजतें हैं तो यह मानकर कर चलना होगा..कि अभी भी नीतीश कुमार के विश्वासपात्र आरसीपी सिंह ही हैं और अगर आरसीपी सिंह का पत्ता कटता है तो ये संभव है कि आरसीपी सिंह की भविष्य की राजनीति बदल सकती है और वे बीजेपी की शरण में जा सकते हैं,क्योंकि आरसीपी सिंह खुद राज्यसभा चुनाव को लेकर कुछ नहीं बोल रहें हैं पर जातीय जनगणना और विशेष राज्य के दर्जे के मुद्दे पर उन्हौने जेडीयू के बजाय बीजेपी एवं पीएम मोदी के स्टैंड का समर्थन किया है,जिससे उनके बीजेपी के नजदीक होने का अनुमान लगाया जा रहा है.केन्द्रीय मंत्री बनने के दौरान भी यह चर्चा में आई थी कि उन्हौने पार्टी नेताओं को बिना विश्वास मे लिए ही वे मोदी सरकार में शामिल हुए थे.मंत्रीमंडल में शामिल होने के बाद जेडीयू ने आरसीपी सिंह की जगह ललन सिंह को राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद दिया था.

मीसा भारती का दुबारा राज्यसभा जाना लगभग तय

लालू की बड़ी बेटी मीसा भारती के राज्यसभा का कार्यकाल भी खत्म हो रहा है.पर ऐसी पूरी संभावना है कि वह आरजेडी मीसा भारती को दुबारा राज्यसभा जाना तय है.उनके पिता और आरजेडी के सुप्रीमो उन्हीं के दिल्ली आवास पर लगातार प्रवास कर रहे हैं.पार्टी और तेजस्वी के व्यवहार को लेकर लालू के बड़े लाल तेजप्रताप कई बार परोक्ष रूप से नराजगी तजाते रहे हैं.इसलिए तेजस्वी यादव अपनी बड़ी बहन मीसा भारती को नाराज करना नही चाहेगें.वहीं इस चुनाव मे आरजेडी को एक सीट का फाईदा हो सकता है।इसलिए संभव है कि आरजेडी एक सीट से मीसा भारती और दूसरी सीट पर किसी दूसरे नेता या उद्योगपति को मौका दे.क्योंकि पिछले कई विधान परिषद एवं राज्यसभा के चुनाव में देखा जा रहा है कि आरजेडी बड़े उद्योगपति को मौका देते रही है.शरद यादव भी आरजेडी से राज्यसभा जाना चाहतें हैं.

बीजेपी का 2 सीट रहेगा बरकरार

खाली हो रही है 5 सीट में से 2 सीट बीजेपी की है।इस समय बीजेपी से गोपाल नारायण सिंह और सतीश चंद्र दूबे सांसद है.संख्या बल के हिसाब से बीजेपी को 2 सीटे मिलना तय है।अब देखना है कि बीजेपी आलाकमान इन्ही दोनो को फिर से राज्यसभा भेजती है या फिर इसमें बदलाव करती है.जेडीयू के प्रत्याशी चुने जाने का भी असर बीजेपी के प्रत्याशी के चुनाव पर पड़ सकता है.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.