राखी बांधते समय इन बातों का जरूर रखें ख्याल, नहीं तो भाई के लिए होगा अशुभ

Rakhi Banane Ka Tarika: रक्षा बंधन के त्यौहार की चारों तरफ रौनक लगी हुई हैं। साल 2019 में 15 अगस्त को राखी का पर्व पड़ रहा है। मार्किट में काफी दिन पहले से ही रंग बिरंगी राखियां बिकनी शुरु हो जाती हैं। राखी का त्यौहार हिंदू धर्म के लोगों द्वारा बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र यानी राखी बांधती हैं और उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं। वैसे तो ये बात बहनें अच्छे से जानती है कि राखी का त्यौहार कैसे मनाया जाए। लेकिन फिर भी कुछ ऐसी बाते हैं जिनका राखी का पर्व बनाते समय खास ध्यान रखना चाहिए…

राखी बांधते समय बहनों को हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि कभी भी अपने भाई को सूर्यास्त के बाद राखी ना बांधे। इसके अलावा इस बात का ध्यान भी रखा जाना चाहिए कि राखी बांधते समय कक्ष में अंधेरा नहीं होना चाहिए।

राखी बांधते समय इस बात का भी विशेष ध्यान रखें कि भाई या बहन किसी का भी चेहरा दक्षिण दिशा की तरफ नहीं होना चाहिए। शास्त्रों के मुताबिक दक्षिण दिशा में यमराज का वास होता है और इस कारण इस दिशा में बैठने से नकरात्मक शक्तियां प्रबल हो जाती हैं।

भाई को राखी बांधने से पहले पूजा की थाली सबसे पहले भगवान के सामने रखें और उन्हें राखी अर्पित करें।– इस बात का ख्याल रखें कि राखी बांधते समय भाई और बहन दोनों का सिर ढका होना चाहिए और राखी बांधने के बाद माता-पिता और बड़ों का आशीर्वाद लेना न भूलें।

भाइयों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बहनों को राखी पर कभी भी उपहार में काले कपड़े, तीखी या नमकीन चीज ना दें।– बहने राखी बांधते समय इस मंत्र का जाप करें ‘येन बद्धो बलिराजा, दानवेन्द्रो महाबलः तेनत्वाम प्रति बद्धनामि रक्षे, माचल-माचलः’।

राखी बांधते समय अपने मन में किसी तरह के नकरात्मक विचार ना लाएं। बेहतर होगा कि राखी बांधते समय पीढ़े पर ही बैठें  इससे शुद्धिकरण होता है और अच्छा प्रभाव पड़ता है। रक्षा बंधन की पूजा की थाली में कुमकुम, हल्दी, चावल, नारियल, रक्षा सूत्र (राखी), मिठाई, दीपक और संभव हो तो गंगाजल जरूर होना चाहिए। इन सब चीजों का धार्मिक महत्व होता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.