कल है सावन मास की दूसरी सोमवारी, जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, मंत्र, आरती और पूजन सामग्री

श्रावण मास का महीना शुरू हो चुका है. कल इस महीने का दूसरा सोमवार है. सावन सोमवार व्रत का विशेष महत्व माना जाता है. क्योंकि सावन और सोमवार दोनों ही भगवान शिव की पूजा के लिए खास होते है. जानिए जानते है इस व्रत से जुड़ी पूरी डिटेल्स

दूसरी सोमवारी पर बन रहा बुधादित्य योग

सावन मास की दूसरी सोमवारी को शिव पूजन का विशेष महत्व रहेगा. हिंदू धर्म के अनुसार 27 नक्षत्र हैं. इसमें तीसरे नक्षत्र का नाम भगवान शिव के बड़े पुत्र भगवान कार्तिकेय के नाम पर रखा गया है. इस नक्षत्र के स्वामी सूर्य और राशि के स्वामी शुक्र हैं. सोमवार को इन सब के बीच सूर्य कर्क राशि में बुध ग्रह के साथ बुधादित्य योग बना रहे हैं. वहीं, शुक्र सिंह राशि में मंगल के साथ युति बना रहे हैं, जो अनंत फल देने वाला हो जाता है. इसलिए इस सोमवार का व्रत और शिव पूजन विशेष महत्व रहेगा.

जानें तिथि, ग्रह स्थिति और शुभ मुहूर्त

  • श्रावण कृष्ण पक्ष नवमी दिन 10 बजकर 11 मिनट के उपरांत दशमी तिथि हो जाएगी
  • श्री शुभ संवत-2078,शाके-1943, हिजरी सन-1442-43
  • सूर्योदय-05:25
  • सूर्यास्त-06:35
  • सूर्योदय कालीन नक्षत्र-कृतिका उपरांत रोहिणी, वृद्धि-योग, ग-करण
  • सूर्योदय कालीन ग्रह विचार-सूर्य-कर्क, चंद्रमा -वृष, मंगल-सिंह, बुध-कर्क, गुरु-कुंभ, शुक्र-सिंह, शनि-मकर, राहु-वृष, केतु-वृश्चिक

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और ह्वाटसअप पर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *