चीन बॉर्डर पर शहीद होने वाले ब‍िहार के जवान सुन‍ील की पत्‍नी का छलका दर्द, कहा-सरकार ने ठग लिया

भारत-चीन के सैनिकों के बीच लद्दाख की गलवान वैली में हुई हिंसक झड़प में बिहार के 5 जवान शहीद हो गए थे, जिसमें पटना के बिहटा के हवलदार सुनील कुमार भी थे. गलवान घाटी में हुए चीन के सैनिकों का सामना करते हुए हमारे देश के यह वीर जवान भी अदम्य साहस और कर्तव्य निष्ठा का परिचय देते हुए वीरगति को प्राप्त हुए. हवलदार सुनील को मरणोपरांत सेना मेडल से सम्मानित किया गया. यह सम्मान उन्हें मरणोपरांत भले ही मिला लेकिन पटना जिला के दानापुर बिहटा या यूं कहें बिहार या पूरा देश सबने इनके बलिदान को सैल्यूट किया. आज भले ही हमारे बीच यह नहीं है लेकिन इनकी शौर्यवीरता की गाथा हमारे लिए हमारे देश के लिए हमेशा प्रेरणादायक रहेगी.

दानापुर में रहने वाले मूल रूप से पटना के बिहटा के रहने वाले सेना मेडल शहीद सुनील कुमार भी चीनी सैनिकों से लोहा लेने में शामिल थे, जो बिहार रेजिमेंट के 16 बिहार बटालियन के हवलदार थे. सैन्‍य संख्या 4281978P हवलदार सुनील कुमार ने 16 वीं बटालियन के बिहार रेजीमेंट में सेवार्थ रहते हुए 15 जून 2020 को गलवान घाटी में अदम्य साहस सूर्यवीरता, पराक्रम और बलिदान भाव की परिचय देते हुए राष्ट्रीय सेवा में अपना सर्वत्र न्योछावर किया और वीरगति को प्राप्त हुए.

फिलहाल उनकी पत्नी उनके भाई उनका पूरा परिवार दानापुर के सगुना मोड़ के समीप डीएसपी कार्यालय के सामने रहते हैं. यहां उनका अपना मकान है आज पूरा मोहल्ले वाले इनके बलिदान पर गर्व करते हैं. शहादत के बाद इस मामले में सरकार के तरफ से भी मदद करते हुए उनकी पत्नी को एसडीओ कार्यालय दानापुर में एलडीसी क्लर्क की नौकरी दी है. सरकार ने और सेना ने लगभग सारे मदद दिए हैं, लेकिन शहीद सुनील की पत्नी रीति ने बताया क‍ि आज भी यह मलाल है कि उनके पति सुनील कुमार के नाम पर अधिकारियों नेताओं ने बीहटा के पितांबरपुर चौराहे पर मूर्ति स्थापित करने को कहा था जो आज तक नहीं हुआ. साथ ही शहीद सुनील अपने बेटे को एक बड़े पदाधिकारी बनाना चाहते थे और इसके लिए अपने बच्चे को बड़े स्कूल में पढ़ाना चाहते थे लेकिन उनकी शहादत के बाद पत्नी ने बेटे को संत माइकल स्कूल में नामांकन कराना चाहा, लेकिन संत माइकल स्कूल ने उनका एडमिशन तक नहीं लिया जिसका मलाल आज भी इन्हें है.

वहीं शाहिद सुनील का साले चंदन का कहना है कि हमारे जीजा शाहिद सुनील कुमार ने देश के लिए बलिदान दिए और आज उनकी शहादत के बाद पूरा देश गर्व करता है. उनकी शहादत हुई थी उस वक्त कई नेता और अधिकारी आए थे और उनकी स्टैच्यू स्थापित करने का आश्वासन दिया था, जो आज तक नहीं हुआ. हम सभी अधिकारियों और नेताओं के पास दौड़ लगा चुके हैं और आज तक सिर्फ आश्वासन मिला है.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *