बिहार के समस्तीपुर में हुआ पकड़ौआ विवाह, BPSC पास अफसर की हुई जबरदस्ती शादी

सरकारी नौकरी बनी आफत! पहले बेटी की हाथ की चाय, फिर अपहरण का केस, पकड़ौआ विवाह से रिंटू की जिंदगी तबाह

बिहार में पकड़ौआ विवाह रुकने का नाम नहीं ले रहा है. अब एक राजस्व कर्मचारी का इस तरह विवाह हुआ है. मामला समस्तीपुर का है. समस्तीपुर जिला के विभूतिपुर प्रखंड क्षेत्र के रहने वाले एक व्यक्ति ने अपनी पुत्री की शादी का रिश्ता बेगूसराय जिले के रहने वाले राजस्व कर्मचारी के यहां भेजा था. उन्होंने उस वक्त शादी करने से इनकार कर दिया था. लेकिन लड़की पक्ष वाले ने साजिश रच कर लड़की को लड़का के पास बेगूसराय परीक्षा दिलाने के नाम पर वहां भेज दिया. उसके बाद बेटी के अपहरण का केस दर्ज कराया. जब लड़का आनन-फानन में लड़की को लेकर थाने पहुंचा तो उस समय ही ब्लॉक मुख्यालय स्थित एक मंदिर में शादी करा दी गई. वहीं लड़के के परिवार के सदस्यों की अनुपस्थिति में हुई इस शादी की वैधता पर सवाल खड़े हो रहें हैं.

राजस्व कर्मचारी रिंटू कुमार ने शादी के दौरान वीडियो में बातचीत करते हुए नजर आ रहे हैं. रिंटू कुमार ने जानकारी देते हुए कहा कि मैं सीतामढ़ी से छुट्टी लेकर अपने गांव बेगूसराय जिला के तलाला आया हुआ था. तभी लड़की के रिश्तेदार ने अपने दरवाजा पर चाय पीने के बहाने बुलाया था. उस समय लड़की अपने रिश्तेदार के यहां गई हुई थी. इसी लड़की के हाथों चाय बनवाकर मुझे पिलाई गई थी.

इसके बाद हम गांव से अपनी ड्यूटी पर सीतामढ़ी चले गए. ड्यूटी पर गए तो लड़की के रिश्तेदार ने कहा कि हमारे एक रिश्तेदार का एग्जाम सेंटर सीतामढ़ी में ही पड़ा है. कृपया आप इनकी एग्जाम अपने डेटा पर रखकर दिलवा दीजिए. मुझे यह साजिश नहीं समझ में आई और हामी भर दिया. इसके बाद लड़की के पिता ने समस्तीपुर जिला के विभूतिपुर थाने में आवेदन देकर अपहरण का मामला दर्ज कराया. कुछ ही दिनों के बाद दोनों को विभूतिपुर प्रखंड मुख्यालय के समीप एक मंदिर में शादी करा दिया गया.

छौड़ाही थाना क्षेत्र के तलाला गांव के रहने वाले श्याम नारायण महतो बताते हैं कि उनका बेटा रिंटू कुमार सीतामढ़ी जिले के रुन्नीसैदपुर प्रखंड में राजस्व कर्मचारी के पद पर कार्यरत है. दो महीने पूर्व समस्तीपुर जिला के विभूतिपुर थाना क्षेत्र के खदियाही गांव निवासी जागेश्वर प्रसाद अपनी बेटी रानी चंद्रप्रभा के विवाह का प्रस्ताव भेजे थे. पर बेटे ने फिलहाल शादी नहीं करने की बात कही थी. श्याम नारायण महतो ने कहा कि उनका बेटा एक माह पहले गांव आया था. वहीं, लड़की भी अपने संबंधी के यहां पहुंची हुई थीं. तभी लड़की के रिश्तेदार ने राजस्व कर्मचारी को अपने दरवाजा पर चाय पीने के बहाने बुलाया और लड़की के हाथों से बने चाय लड़का को पिलाया. इसके बाद वह अपनी ड्यूटी पर चले गए.

लड़के के पिता बताते हैं कि गांव के ही एक रिश्तेदार ने उनके बेटे को फोन कर आग्रह किया कि एक रिलेशन के लड़की का सीतामढ़ी में परीक्षा का सेंटर मिला है. आप उसे अपने कमरे में रखेंगे और उसका दिलवा दीजिएगा. उनका बेटा रिंटू कुमार इस साजिश को समझ नहीं सका और इससे सहमत हो गया. पिछले बुधवार को रानी चंद्रप्रभा लड़का के पास पहुंच गई.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WHATTSUP,YOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *