गोपालगंज और पूर्वी चंपारण के बीच दूरी खत्म, कल CM नीतीश कुमार करेंगे सत्तर घाट पुल का उद्घाटन

मुख्यमंत्री कल 400 करोड़ से बने पुल और बाइपास सड़क का करेंगे उद्‌घाटन, गंडक नदी पर बना यह पुल रामजानकी पथ और बौद्ध परिपथ का अहम हिस्सा है

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 16 जून को गोपालगंज और पूर्वी चंपारण को जोड़ने वाले गंडक नदी पर बने सत्तर घाट पुल का उद‌्घाटन करेंगे। 263.47 करोड़ की लागत से बने सत्तरघाट पुल बौद्ध परिपथ और रामजानकी मार्ग का अहम हिस्सा है। इससे सारण और तिरहुत प्रमंडल की दूरी कम हो जाएगी। 1440 मीटर लंबे पुल का निर्माण बिहार राज्य पुल निर्माण निगम ने किया है।

यह पुल गोपालगंज के बैकुंठपुर से पूर्वी चंपारण के चकिया को जोड़ेगा। इससे सीवान, छपरा, गोपालगंज होते हुए एनएच-28 के जरिये उत्तर बिहार के अधिसंख्य जिलों की संपर्कता हो जाएगी। इस पुल से पटना से मशरख होते हुए रक्सौल तक सीधा रास्ता उपलब्ध हो जाएगा। अप्रैल, 2012 में इसका शिलान्यास हुआ था।

आरओबी बनने से लोगों को मिलेगी जाम से मुक्ति : पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा कि 400 करोड़ रुपए से अधिक राशि से निर्मित पुल व पथ की दो बड़ी परियोजनाओं का मुख्यमंत्री मंगलवार काे लोकार्पण करेंगे। सत्तर घाट पुल के साथ लखीसराय बाइपास का उद‌्घाटन करेंगे, जिसके निर्माण में 146.31 करोड़ रुपए की लागत आयी है। लखीसराय बाइपास रोड में अवस्थित दोनों रेलवे लाइन पर समेकित आरओबी का निर्माण किया गया है। इस पुल परियोजना की कुल लंबाई 6.59 किमी है। इसके बनने से लखीसराय शहर को जाम की समस्या से निजात मिल जाएगी।

सासाराम उत्तरी बाइपास रोड के पहले चरण का भी होगा कार्यारंभ : रोहतास जिले के सासाराम शहर के उत्तरी बाइपास के निर्माण के पहले चरण की परियोजना का शिलान्यास भी 16 जून को ही होगा। यह पथ दो लेन चौड़ा होगा। इस पर 122.39 करोड़ रुपए लागत अाएगी। इसके अंतर्गत रेलवे लाइन पर आरओबी के अलावा स्टेट हाईवे 17 एवं 12 पर वीयूपी (व्हीकल अंडर पास) का निर्माण किया जाएगा। इसके बन जाने से सासाराम शहर के पश्चिमी से उत्तरी सीधी संपर्कता मिल जाएगी। सासाराम आरा से वाराणसी जाने के लिए सासाराम शहर में प्रवेश करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *