सेना भर्ती परीक्षा में कुव्यवस्था, आसमान के नीचे कुर्सियों पर बैठे छात्र, जांघ को बनाया टेबल

सेना भर्ती के लिए चक्कर मैदान में इस तरह रविवार काे खुले आसमान के नीचे लिखित परीक्षा ली गई। टेबल या डेस्क की व्यवस्था नहीं थी।

सेना बहाली में दाैड़ व शारीरिक दक्षता उत्तीर्ण अभ्यर्थियों का रविवार काे चक्कर मैदान में पहले चरण की लिखित परीक्षा ली गई। प्रशासन की अाेर से परीक्षार्थियों काे टेंट वाली प्लास्टिक की बिना बांह वाली कुर्सी मुहैया कराई थी। कुर्सी पर बैठे परीक्षार्थियों ने मजबूरन जांघ पर ही टेबल तरह कॉपी रखकर परीक्षा दी। पेपर पैड भी लेकर जाने की मनाही थी। इसी तरह 5 ट्रेड के लिए मुजफ्फरपुर समेत उत्तर बिहार के 8 जिले के 1355 परीक्षार्थियों से एक घंटे तक परीक्षा ली गई। सिपाही फार्मा के लिए बिहार- झारखंड के सभी जिलों व अन्य चार पदों के लिए मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी और समस्तीपुर जिले के अभ्यर्थियों ने भाग लिया।

जिला प्रशासन की अाेर से उपलब्ध कराई गई व्यवस्थाओं के तहत ही परीक्षा ली गई है। जिला प्रशासन की अाेर से सिर्फ कुर्सी ही दिया गया था। पायलट प्रोजेक्ट के तहत ही देश के कुछ भर्ती बाेर्ड में अाॅन लाइन परीक्षा लेने की व्यवस्था है। मुजफ्फरपुर में यह व्यवस्था अभी लागू नहीं है। – कर्नल मनमोहन सिंह मनहास, सहायक निदेशक सेना भर्ती बाेर्ड मुजफ्फरपुर

जिला प्रशासन के संबंधित अधिकारियों से इस मामले की जानकारी ली जा रही है। पूरी जानकारी लेने के बाद ही कुछ बाेल पाउंगा। अगर कोई गड़बड़ी होगी तो उचित कार्रवाई की जाएगी। – अालाेक रंजन घाेष, डीएम मुजफ्फरपुर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *