बिहार की तरह झारखंड में भी होगी शराबबंदी, स्थापना दिवस पर सोरेन ने कहा- पीना अच्छी बात नहीं है

झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के अध्यक्ष शिबू सोरेन प्रदेश में शराबबंदी के पक्ष में हैं। मोर्चा के 43वें स्थापना दिवस के मौके पर कहा कि शराब सामाजिक बुराई है और उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में सबसे ज्यादा संघर्ष इसके लिए किया है। पहले महुआ का उपयोग शराब के लिए बड़े पैमाने पर होता था, लेकिन जागरूकता के कारण यह काफी हद तक कम हुआ। शराब की लत लोगों का जीवन खराब रही है।

श‍िबू सोरेन ने कहा क‍ि सामाजिक आंदोलन की शुरूआत में इसका सकारात्मक असर पड़ा। महुआ का उपयोग शराब की बजाय अन्य काम में करने पर जोर दिया। लोग शराब बनाते थे, जबकि इसे पकाकर और भूनकर खाया जा सकता है। पहले मारपीट कर दारू छुड़ाने का उपाय करते थे, लेकिन यह स्थायी समाधान नहीं है। झारखंड में भी शराबबंदी होना चाहिए। शराब को समाप्त कर देना चाहिए।

बता दें कि बिहार में अप्रैल 2016 से पूर्ण शराबबंदी कानून लागू है। इसके तहत शराब बेचने और खरीदने पर प्रतिबंध है, इसका उल्लंघन करने पर उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है। मिली जानकारी के मुताबिक बिहार में अभी 30 से 40 प्रतिशत केस शराब पीने वालों के खिलाफ दर्ज है।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और Whattsup, YOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *