एसटीईटी का ऑनलाइन आवेदन शुरू, एपीयरिंग अभ्यर्थियों को अनुमति नहीं, नया पोर्टल शुरू

राज्य में आठ साल के बाद माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (एसटीईटी) की प्रक्रिया सोमवार से शुरू हो गई। ऑनलाइन आवेदन के लिए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने सोमवार को नया पोर्टल शुरू कर दिया। इस पोर्टल पर ही अभ्यर्थी रजिस्ट्रेशन कराने के साथ एसटीईटी में भाग लेने के लिए आवेदन शुल्क भी जमा कर सकेंगे।

इस परीक्षा में बीएड उत्तीर्ण अभ्यर्थी ही भाग ले सकते हैं। अपीयरिंग अभ्यर्थियों को अनुमति नहीं दी गई है। हालांकि विभाग के इस निर्णय से स्टूडेंट्स में नाराजगी है। बीएड उत्तीर्ण छात्रों का कहना है कि अपीयरिंग अभ्यर्थियों को शामिल नहीं करने का निर्णय सही नहीं है। इसको लेकर सोमवार को बीएन कॉलेज में बीएड उत्तीर्ण छात्र संघर्ष समिति की बैठक हुई।

इस दौरान समिति के अध्यक्ष दीपांकर गौरव ने कहा कि अपीयरिंग अभ्यर्थियों को आवेदन प्रक्रिया से बाहर रखने से लगभग 30 हजार अभ्यर्थियों पर असर पड़ेगा। इस निर्णय पर पुनर्विचार की जरूरत है। आठ साल बाद हो रहे एसटीईटी में सबसे खास यह है कि इस परीक्षा के बाद उतने ही अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण घोषित किया जाएगा, जिनकी नियुक्ति होगी। इसलिए हर अभ्यर्थी इस परीक्षा में शामिल होना चाहता है, लेकिन अपीयरिंग अभ्यर्थियों को शामिल नहीं करने के फैसले से कई अभ्यर्थी निराश हैं।

मेरिट लिस्ट के लिए न्यूनतम कटऑफ निर्धारित : एसटीईटी में विषय और कैटेगरी के हिसाब से मेरिट लिस्ट तैयार होगी और उसके बाद अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण घोषित किया जाएगा। मेरिट लिस्ट में शामिल होने के लिए न्यूनतम कटऑफ सबके लिए निर्धारित है। अनारक्षित कैटेगरी के अभ्यर्थियों को प्रवेश परीक्षा में न्यूनतम 50 फीसदी और आरक्षित कैटेगरी में सभी अभ्यर्थियों के लिए 45% अंक अनिवार्य होंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *