चलो NRC का समर्थन करते हैं, यह केवल भारत ही क्यों, पूरे विश्व में लागू होना चाहिए

चलो NRC का समर्थन करते हैं।

यह केवल भारत ही क्यों, पूरे विश्व में लागू होना चाहिए। पहले पूरे विश्व को चाहिए कि वो अपने मूल नागरिकों (पता नहीं कैसे तय करेगें) के अलावा बाकी सबको घुसपैठिया घोषित करे और उन्हें फौरन अपने देश से निकालकर बाहर का रास्ता दिखा दे। फिर दुनियांभर के राज्य अपना NRC करे और अपने राज्य के मूल निवासियों के अलावा बाकी सबको निकाल बाहर करे।

फिर दुनियां का हर शहर, गाँव, कस्बा अपना NRC करे और वहां से घुसपैठियों को निकाल बाहर करे। फिर हर धर्म और जाति अपना NRC करे और अपना शुद्ध ख़ून (पता नहीं कैसे तय होगा) के साथ अलग-अलग देश बना ले। केवल हिन्दू, मुसलमान, सिख, ईसाई ही क्यों बल्कि हर जाति धर्म और नास्तिकों का अपना एक देश होना चाहिए। यह सब जब हो जाए तब रंग और आकार के आधार पर भी देश बनाया जा सकता है, जैसे कालों का अलग, सावलों का अलग और गोरों का अलग।

फिर लड़का लड़की का भी अलग देश हो ही सकता है। बच्चों का भी एक अलग देश बना सकते हैं। फिर टीका और चंदन के हिसाब से भी बटवारा हो सकता है। फिर मोटे का अलग देश और पतले का अलग, लंबे का अलग और नाटे का अलग। फिर बेसुरों का अलग देश, सुरवालों का अलग देश, नाचनेवालों का अलग देश, नाटकीया का अलग देश, बजनियाँ का अलग देश, फिर बोली, भाषा, पहनावा, खाना पान आदि के आधार भी तो हैं, उफ़ कितना काम है!

अब करने को बाकी तो कुछ बचा नहीं है, जीवन के मूलभूत सवाल तो हमने कब के हल कर ही लिए हैं। सबके पास काम है, रोज़गार है, खाना है, नौकरी है, अच्छा घर है आदि आदि। तो अब चलो समय बिताने के लिए NRC – NRC का खेल ही खेल लिया जाए।
जॉनी, जिनके घर शीशे के हों उन्हें नहाने के लिए भी जगह खोजनी पड़ती है और जनता का ध्यान मूलभूत बातों से भटकाने के लिए हमारे परमादरणीय नेता लोग जुमला फेंकते रहते हैं – लपेटीए और मस्त रहिए।

पुंज प्रकाश

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *