सुशांत मामले की जांच दो माह में पूरी कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल, 4 महीने में जांच भी पूरी नहीं हुई

सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को एक पीआईएल दायर कर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सीबीआई जांच की स्टेटस रिपोर्ट पेश कराने का आग्रह किया गया। याचिकाकर्ता ने कोर्ट से कहा कि सीबीआई को दो महीने में जांच को पूरी करने का निर्देश दिया जाए। याचिका में कहा गया है कि सीबीआई को नियमानुसार 90 दिनों में जांच पूरी कर सम्बंधित कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करनी चाहिए था। लेकिन चार महीने से अधिक समय बीत जाने के बाद भी सीबीआई जांच पूरी नहीं कर पाई है।

यह पीआईएल पुनीत ढांडा की ओर से एडवोकेट विनीत ढांडा ने दायर की है। बिहार सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। बाद में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई ने जांच शुरू की। लेकिन जांच में सुस्ती के कारण सुशांत की मौत के मामले में अभी भी संशय बरकरार है। बीते 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत बांद्रा (मुंबई) के अपने घर में मृत पाए गए थे। उसके बाद से ही उनके फैंस और रिश्तेदारों में काफी नाराजगी है।

उनका स्पष्ट मानना है कि सुशांत को मार डाला गया, और खासकर मुंबई पुलिस ने आरोपियों को बचाने के लिए पूरे मामले को डायवर्ट कर दिया; इसे आत्महत्या का मामला बता दिया। गौरतलब है कि सुशांत की मौत के बाद जब मुंबई पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की और कायदे की जांच करने में नाकाम रही, तो सुशांत के पिता ने पटना के राजीव नगर थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी। पटना पुलिस ने मुंबई जाकर जांच भी शुरु की। लेकिन मुंबई पुलिस के असहयोग के कारण पटना पुलिस को वापस लौटने को बाध्य होना पड़ा। अंतत: सीबीआई जांच शुरू हुई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.