बिहार में बदला सरकारी टीचर बहाली कानून, CM नीतीश ने बनाए नए नियम, जल्द होगा लागू

शिक्षक भर्ती: टीईटी-एसटीईटी अंक पर 60%, एकेडमिक को 40% वेटेज, स्थायी नियुक्ति में ठेका कर्मियों को प्राथमिकता… उम्र में भी छूट मिलेगी, संशोधित होते रहे 18 जुलाई 2007 को बने नियुक्ति नियम : राज्य के स्कूलों में कक्षा एक से 12 तक लगभग पौने दो लाख शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया में बड़ा बदलाव किया जा रहा है। बीटेट, सीटेट और एसटीईटी के रिजल्ट पर 60 प्रतिशत और शैक्षणिक व प्रशिक्षण योग्यता (मैट्रिक से स्नातकोत्तर, डीएलएड और बीएड तक) 40 प्रतिशत वेटेज मिलेगा। शिक्षक नियुक्ति के लिए नई नियमावली-2022 लगभग तैयार है। इस पर सिर्फ कैबिनेट की मुहर लगनी बाकी है।

गौरतलब है कि 2020 की शिक्षक भर्ती नियमावली में टीईटी और एसटीईटी का वेटेज जो पहले 2 से 10 अंक तक मिलता था, उसे खत्म कर दिया गया था। प्रारंभिक स्कूलों में लगभग एक लाख शिक्षकों की बहाली के लिए वैकेंसी अगस्त के अंत तक आएगी। वहीं, हाईस्कूलों में 75 से 80 हजार पदों के लिए रिक्तियां सितंबर या अक्टूबर में आएंगी। पिछले दिनों शिक्षा विभाग में नियुक्ति नियमावली और रिक्ति मामले पर लगातार विभिन्न स्तरों पर मैराथन बैठक हुई थी।

पिछले साल 22 जनवरी को प्रभावी हुई नई मार्गदर्शिका
सरकार ने 18 जुलाई 2007 को ठेके पर नियुक्ति की प्रक्रिया तय की थी। संविदा पर नियोजन की प्रक्रिया व मार्गदर्शिका 2021 में ही प्रति वर्ष की गई संतोषजनक सेवा के लिए 5 अंक की दर से अधिकतम 25 अंक दिए जाने और उम्रसीमा में छूट का प्रावधान किया गया है। सामान्य प्रशासन विभाग ने इसी आधार पर उन विभागों को नियमावली में संशोधन करने को कहा है, जहां संविदा कर्मी कार्यरत हैं।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.