बिहार के ये रेलवे स्टेशन निजी एजेंसियों के हवाले, यहां मिलेंगी एयपोर्ट जैसी यात्री सुविधाएं

Patna: रेल प्रशासन ने एयरपोर्ट की तरह रेलवे स्टेशन पर सुविधा देने की कवायद शुरू कर दी है। बिहार के चार तो पूर्व मध्य रेल के अधीन 5 स्टेशनों को निजी एजेंसियों के माध्यम से विकसित करने की योजना पर काम शुरू कर किया गया है। 

देश के 25 स्टेशनों में शामिल इन 5 स्टेशनों पर रेल यात्रियों को वैसी तमाम अत्याधुनिक सुविधाएं मिलेगी जो लोगों को एयरपोर्ट पर मिलती है। यह दीगर बात है कि इन सुविधाओं के एवज में रेल यात्रियों को जेबें अधिक ढीली करनी पड़ेगी।

दरअसल, पीपीपी मोड के तहत रेल प्रशासन ने पूर्व मध्य रेल के 5 स्टेशनों को विकसित करने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। रेलवे बोर्ड की ओर से पूमरे को बुधवार को इस बाबत आधिकारिक पत्र आ चुका है। अब इन स्टेशनों को निजी एजेंसियों को सौंपा जाएगा। पूमरे जिन 5 रेलवे स्टेशनों को निजी हाथों में सौंपा जाएगा, उनमें राजेंद्र नगर टर्मिनल, मुजफ्फरपुर,गया, बेगूसराय औऱ सिंगरौली है। सिंगरौली मध्यप्रदेश में है।  इन पांच रेलवे स्टेशनों के निजीकरण  में बड़ी कंपनियों ने दिलचस्पी भी दिखाई है।

निजीकरण के लिए पूरी प्रक्रिया को मूर्त रूप देने के लिए रेलवे विकास निगम को जिम्मेवारी सौंप दी गई है।  रेलवे का दावा है कि इससे यात्री सुविधाओं के विकास में तेजी आएगी। पहले चरण में देश के दो स्टेशन हबीबगंज व गांधीनगर को विकसित किया जा रहा है। पूमरे के 5 स्टेशनों को दूसरे चरण में शामिल किया गया है। 

निजीकरण के तहत ट्रेनों की धुलाई, स्टेशन के रखरखाव की जवाबदेही निजी एजेंसियों को दी जाएगी। स्टेशन परिसर की पार्किंग, सफाई, ट्रेनों में पानी भरना, बिजली, परिसर में विज्ञापन लगाने का काम भी निजी एजेंसियां करेगी। प्लेटफार्म पर फूड स्टॉल लगाने का काम निजी कंपनियों को दिया जाएगा। इससे यात्रियों को महंगे खाद्य पदार्थ मिल सकते हैं। अलग-अलग स्टेशनों के लिए विशेष नियम और शर्त तय किए जाएंगे। कुछ स्टेशनों की खाली पड़ी जमीन पर शॉपिंग मॉल भी बनाने की बात चल रही है। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *