मंदिर में चोरी करने के बाद 4 चोर भागे और 2 चोर वही सो गए, लोगों की पिटाई से खुली नींद

मुजफ्फरपुर के मिठनपुरा थाने के मालीघाट में रविवार की रात चोरी की अजीब घटना हुई। छह चोरों ने मिलकर दुर्गा मंदिर व पास की चार दुकानों से हजारों का सामान चुरा लिया। लेकिन इनमें से दो चोर सामान लेकर भाग नहीं सके। दोनों को नींद आ गई और वे मंदिर के पास ही सो गए। सोमवार की सुबह भीड़ ने दोनों को सोते हुए ही पकड़ लिया और हाथ-पैर बांधकर पीटाई कर दी। मिठनपुरा पुलिस ने दोनों को भीड़ से बचाया। थानेदार भागीरथ प्रसाद ने बताया कि पूछताछ में आरोपितों की पहचान हुई है। दोनों मिठनपुरा के ही हैं, एक का नाम मो. मुर्तजा और दूसरे का नाम मो. वसीम है। मंगलवार को दोनों को कोर्ट में पेशकर न्यायिक हिरासत में भेज दिया जाएगा।
इस सबंध में पुजारी राजेश्वर पाठक, दुकानदार जितेंद्र गुप्ता, सविता देवी व सुधा देवी ने एफआईआर कराई है। इसमें मुर्तजा व वसीम के अलावा चार अन्य लोगों को भी आरोपित किया है। मंदिर के पुजारी ने पुलिस को बताया कि भारी बारिश के बीच मंदिर के साथ साथ चार दुकानों को भी चोरों ने निशाना बनाया। छह चोरों ने मिलकर स्टोर रूम समेत मंदिर का ताला तोड़ दिया। चोरों नें एक हजार रुपये के सिक्के, कपडे, गैस सिलेंडर व अन्य सामान चुरा लिया। उसके बाद चोरों ने समीप के चार दुकानों के भी ताले तोड़ डाले और कीमती सामान चुरा लिया। पकड़े गये चोर के अन्य साथी कुछ सामान लेकर भाग निकलने में कामयाब रहे। पुजारी ने आगे बताया कि सोमवार सुबह मंदिर का ताला टूटा हुआ मिला। चोरी को लेकर शोर किया तो मोहल्लेवासी जुट गए। इसके बाद खोजबीन शुरू हुई।

खोजबीन के दौरान मंदिर के पास में ही दोनों युवक चोरी के कुछ सामान के साथ सोते हुए मिले। स्थानीय लोगों द्वारा दोनों को जगाकर पूछताछ की गई, लेकिन दोनो में से किसी नें जवाब नहीं दिया। इसके बाद आक्रोशित भीड़ ने दोनों की पिटाई कर दी। पुलिस के सामने पूछताछ में दोनों आरोपितों ने बताया कि चार लोग कुछ सामान लेकर भाग गए। और वे दोनों चोरी किए गए सामान की रखवाली कर रहे थे। इस बीच उनको नींद आ गई थी। मंदिर के अध्यक्ष सियाराम सिंह ने बताया कि पहले भी तीन-चार बार मंदिर में चोरी हो चुकी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *