एक ही दिन में मिले 53 मरीज, 31 मुंगेर में मधेपुरा में खुला खाता, कुल संख्या 223

राज्य के 38 में 20 जिलाें में काेराेना फैल चुका है। दो नए जिले मधेपुरा और औरंगाबाद भी कोराेना से प्रभावित जिलों की सूची में जुड़ गए हंै। शुक्रवार को 53 नए संदिग्धों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस तरह राज्य में कोरोना संक्रमिताें की कुल संख्या 223 हो गई है। मुंगेर के जमालपुर में एक दिन में 31 की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली है। अब मुंगेर में मरीजों की संख्या 62 हो गई है। सभी जमालपुर सदर बाजार क्षेत्र के हैं।

पटना में दो नए क्षेत्र डाकबंगला और मसौढ़ी में एक-एक कोरोना पॉजिटिव मिले। डाकबंगला स्थित एक बैंक में काम करने वाला शख्स कोरोना की चपेट में आ गया। इसके अलावा बक्सर में 12, नालंदा में 3, औरंगाबाद में 2, मधेपुरा, सारण और बांका में 1-1 नए मरीज संक्रमित मिले हैं। नालंदा में तीन नए कोरोना पॉजिटिव मिलने से कुल संख्या 31 से 34 हो गई है। बक्सर में 12 नए पॉजिटिव मिलने से यह संख्या 8 से 20 हो गई है। यहां संक्रमितों में एक 6 साल की बच्ची भी है।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि राज्य में अभी तक 45 पॉजिटिव मरीज ठीक हुए हैं। फिलहाल एक्टिव मरीजों की संख्या 151 है। प्रधान सचिव ने बताया कि संक्रमण की जांच तेजी से चल रही है। अबतक 14924 सैंपल की जांच हुई है, जिसमें 214 पॉजिटिव केस सामने आए हैं। राज्य के संक्रमित जिलों में कुल 36 कंटेनमेंट जोन घोषित किए गए हैं। 15 जोन में ही 136 मरीज संक्रमित हैं।

पॉजिटिव आने के 4 घंटे बाद तक आइसोलेशन वार्ड में ही थी मरीज : मधेपुरा के बिहारीगंज प्रखंड के मोहनपुर पंचायत के रहटा की जिस महिला मरीज को शनिवार को संक्रमित पाया गया, उसे रात के पौने 11 बजे तक आईजीआईएमएस के आइसोलेशन वार्ड में ही रखा गया। मरीज के पति ने उस समय भास्कर संवाददाता को बताया कि शाम साढ़े सात बजे के आसपास रिपोर्ट आने के बाद भी वे लोग यहीं हैं।

सिर्फ नर्सिंग स्टाफ ही एक-दो बार उसे देखने आए। कोई डॉक्टर देखने नहीं आया। परिजन ने गुहार लगाई की यहां की व्यवस्था उसे ठीक नहीं लग रही है। उसने मिन्नत की कि किसी तरह उनलोगों को सुरक्षित वार्ड में शिफ्ट कराया जाए, ताकि आइसोलेशन वार्ड के अन्य मरीजों को कोई खतरा न हो। यहां रसूखदार पैरवी वाले के मरीज की ही ठीक से देखभाल होती है। उसने यह भी बताया कि उसकी पत्नी (कोरोना संक्रमित) को पेट मे पांच माह से दर्द हो रहा था।

भागलपुर के डॉक्टर ने बताया कि लीवर बढ़ गया है, ऑपरेशन करना पड़ेगा। गांव में इलाज कराने के साथ ही ओझा-गुनी से भी दिखाया, पर ठीक नहीं हुई। इसके बाद ही वह ऑटो रिजर्व कर गुरुवार को पटना में भर्ती हुआ। मरीज के पति ने गुहार लगाई कि वह काफी गरीब परिवार का है, सरकार ध्यान दे। बेटे ने रात पौने 11 बजे वार्ड का वीडियो बनाकर भी भेजा। पति ने बताया कि पटना में भर्ती होने के बाद से उसका अबतक विभिन्न जांच के नाम पर 55 हजार रुपए खर्च हो चुके हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *