पेट की भूख मिटाने के लिए बिहार से बड़े शहरों में लौटने लगे कोरोना से बेपरवाह कामगार, ट्रेनें फुल

PATNA : कोविड-19 और लॉकडाउन के कारण बिहार के गांवों में लौटनेवाले प्रवासी मजदूराेें को पेट की आग ने फिर से शहर जाने को मजबूर कर दिया है। इस कारण बिहार से नई दिल्ली, मुंबई, पुणे, हैदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई आदि शहरों को जाने वाली तमाम ट्रेनें हाउसफुल चल रहीं हैं। अगस्त-सितंबर में किसी भी स्पेशल ट्रेन में सीटें खाली नहीं हैं। रेल अधिकारियों की मानें तो कोरोना संक्रमण के कारण शहरों से गांव लौटने वालों के लिए रेलवे की ओर से 230 ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया था। इन ट्रेनों में आने वालों की भीड़ तो थी, लेकिन बिहार से लौटने वाले बहुत कम थे।

अधिकांश ट्रेनों में 30 से 70 फीसद तक सीटें खाली रह रही थीं। अब ट्रेनें फुल होकर जा रहीं हैं। अगस्त की शुरुआत से ही बिहार होकर चलने वाली या बिहार से खुलने वाली अधिकांश ट्रेनें हाउसफुल हो गईं। इन ट्रेनों में सभी श्रेणियों में लौटने वाले मजदूरों की भीड़ रह रही है। पहले जो जनरल श्रेणी में यात्रा करते थे, आज एसी 3 या 2 में जा रहे हैं। कंपनी वाले ही उन्हें टिकट भेज रहे हैं। ट्रेनों में ड्यूटी करने वाले टिकट निरीक्षकों की मानें तो अधिकांश मजदूरों के पहचानपत्र पर नाम पता कुछ और होता है तो टिकट पर कुछ और। टिकट पर उम्र 40 साल तो पहचान पत्र पर 22 वर्ष। पूछने पर बताते हैं कि कंपनी वालों ने टिकट भेजा है। ऐसे लोगों से रेलवे की ओर से जुर्माना भी वसूला जा रहा है।

15 सितंबर तक ट्रेनों की स्थिति
05483 महानंदा एक्स – रिग्रेट
02391 श्रमजीवी एक्स – हाउसफुल
02565 बिहार संपर्क क्रांति-हाउसफुल
02553 वैशाली एक्स. – हाउसफुल
05955 ब्रह्मपुत्र एक्स. – हाउसफुल
02393 संपूर्णक्रांति एक्स.- हाउसफुल
02309 राजधानी एक्स – हाउसफुल
02423 गुवाहाटी राजधानी- हाउसफुल
02142 एलटीटी एक्स- हाउसफुल
05446 गुवाहाटी दादर- हाउसफुल
01062 डिब्रूगढ़ एलटीटी- हाउसफुल
03201 एलटीटी एक्स – हाउसफुल
02150 पुणे एक्सप्रेस – हाउसफुल
02792 सिकंदराबाद ए.-हाउसफुल
02296 संघमित्रा एक्स- हाउसफुल

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *