30 जुलाई मुस्लिम महिलाओं के लिए ऐतिहासिक दिन, अब तीन तलाक के डर के साये में नहीं जीना होगा

PATNA: रोटी काली हो गयी तो तीन तलाक’ । ‘पत्नी ने सब्जी के लिए पैसा तो मांगा तीन तलाक’। ‘पत्नी’ ने अ’श्लील वीडियो बनाने का विरोध किया तो तीन तलाक’। 30 जुलाई का दिन मुस्लिम महिलाओं के लिए ऐतिहासिक दिन है। अब तीन-तलाक के डर के साये में मुस्लिम महिलाओं को नहीं जीना होगा। क्योंकि मुस्लिम पुरुषों के सिर पर कानून का डंडा होगा।

लोकसभा के बाद अब राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास हो गया है। अब इस बिल को राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। तीन तलाक बिल पर मोदी सरकार के इतिहास रचने के बाद सोशल मीडिया पर लोग जमकर मुस्लिम महिलाओं को बधाईयां दे रहे हैं। लोग मोजी जिंदाबाद के नारे भी लगा रहे हैं। मुस्लिम महिलाओं में खुशी की लहर है। हर तरफ मिठाीयां बांटी जा रही है।

तीन तलाक बिल को लेकर संसद ने इतिहास रच दिया है।  लोकसभा के बाद अब राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास हो गया है। अब इस बिल को राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। बिल के पक्ष में 99 और विपक्ष में 84 वोट पड़े। वहीं इससे पहले राज्यसभा में तीन तलाक बिल को सेलेक्ट कमेटी के पास भेजने का प्रस्ताव वोटिंग के बाद गिर गया। राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास होने के बाद मुस्लिम महिलाओं में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है।

तीन तलाक बिल 26 जुलाई को इसी सत्र में लोकसभा से पास हो चुका है। मोदी सरकार पहली बार सत्ता में आने के बाद से ही तीन तलाक बिल को पारित कराने की कोशिश में जुटी थी। पिछली लोकसभा में पारित होने के बाद यह बिल राज्यसभा में अटक गया था, जिसके बाद सरकार इसके लिए अध्यादेश लेकर आई थी। इस लोकसभा में फिर से कुछ बदलावों के साथ यह बिल लाया गया था और अब लोकसभा के बाद राज्यसभा में इस बिल को पास कराने में सरकार सफल रही है।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *