नीतीश के खासमखास नेता कुशवाहा का विवादित बयान, कहा— देशभक्ति के लिए राष्ट्रगीत को गाना जरूरी नहीं

PATNA : उपेंद्र बाेले- देशभक्ति के लिए राष्ट्रगीत को गाना जरूरी नहीं, प्रेम ने कहा-राष्ट्रगीत में आखिर आपत्तिजनक क्या, परहेज क्यों, भाजपा नेता का स्टैंड-राष्ट्रगान सा सम्मान मिले, जदयू नेता की राय-किसी से जबर्दस्ती गलत

जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि देशभक्ति साबित करने के लिए राष्ट्रीय गीत गाना जरूरी नहीं है। किसी से जबरन राष्ट्रगीत नहीं गवाया जा सकता है। यह ठीक नहीं है। ऐसा नहीं होना चाहिए। जो राष्ट्रगीत नहीं गाना चाहता है, उससे जबरदस्ती नहीं गवाया जा सकता है। जो राष्ट्रीय गीत गाता है, वही देशभक्त है यह स्थापित नहीं होता है। कुशवाहा मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा गांव के लोगों और आमलोगों को को पूछिए तो सभी लोगों को राष्ट्रगीत कहां याद है। तो क्या वे देशभक्त नहीं हैं? देशभक्ति के लिए सही ड्यूटी जरूरी है। अफसरशाही का मामला है, तो सरकार कार्रवाई करती है। शराबबंदी पर विपक्ष के सिर्फ आरोप लगाने से काम नहीं होगा।

जातीय जनगणना पर कहा- यह पूरे देश के लिए जरूरी
उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जातीय जनगणना निहायत जरूरी है। बिहार ही नहीं, पूरे देश के लिए जातीय जनगणना जरूरी है। 2021 के लिए आम जनगणना के साथ ही जातीय जनगणना भी करा लेना चाहिए।

राष्ट्रगीत का अनुवाद भी देखें क्या आपत्ति वाली बात है…
प्रेम कुमार ने कहा कि पहले राष्ट्रगीत के अनुवाद को देख लें- मैं आपके सामने नतमस्तक होता हूं, माता। पानी से सींची, कटाई की फसलों के साथ गहरी माता। वरदान देने वाली, आनंद देने वाली, माता। …इसमें क्या आपत्ति वाली बात है। भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने राष्ट्रगीत पर आपत्ति को अनुचित बताया है। उन्होंने ऐसे लोगों से स्पष्ट पूछा कि राष्ट्रगीत से परहेज क्यों?

विरोध करने वाले बताएं कि वंदे मातरम् में कौन सी बात आपत्तिजनक है। इसमें किसी धर्म, संप्रदाय, मजहब के खिलाफ कौन सी बात है? किसी देश की धरोहर में सबसे खास उस देश का राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत होता है। इससे हर देश की अपनी एक अलग पहचान बनती है। वंदे मातरम् को राष्ट्रगीत का दर्जा प्राप्त है। इसीलिए जिस तरह राष्ट्रगान का हम सम्मान करते हैं, उसी तरह राष्ट्रगीत का सम्मान भी हमें करना चाहिए। अपने देश के राष्ट्रीय प्रतीकों, धरोहरों व परंपराओं का सम्मान अपने राष्ट्रगान-राष्ट्रगीत का सम्मान करना है। इसपर विवाद उचित नहीं है।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WHATTSUP, YOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *