पटना-कोलकाता-वारणसी के बीच चलेगी बुलेट ट्रेन, दिल्ली अहमदाबाद समेत 7 रूट्स पर तेजी से काम शुरू

पीएम मोदी के बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर तेजी से काम शुरू हो गया है, कहा जा रहा है कि देश भर में सात रेल खंडों पर बुलेट ट्रेन चलाई जानी है, इसमे वारणसी से पटना होते हुए कोलकाता का भी प्रोजेक्ट शामिल है, एक तरह से कहा जाय तो बिहार के लोग भी पटना से बुलेट ट्रेन का सफर कर पाएंगे

देशभर में बुलेट ट्रेन चलाने की तैयारी: दिल्ली-अहमदाबाद 886 किलोमीटर ट्रैक के लिए नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर रहा है। अहमदाबाद-मुंबई के अलावा देश के हर कोने में बुलेट ट्रेन चलाने की कवायद रेलवे ने शुरू की है। हाई स्पीड कॉरिडोर पर ट्रेन 300 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है। रेलवे की योजना है कि सात व्यस्त रूट पर बुलेट ट्रेन चलाई जाए।

अहमदाबाद-मुंबई रूट पर पहली बुलेट ट्रेन परियोजना के बाद भारतीय रेलवे दिल्ली और अहमदाबाद समेत 7 रूट्स पर बुलेट ट्रेन की सौगात दे सकता है। इसके लिए रेलवे ने तैयारी शुरू कर दी है, जिसके तहत उसने नेशनल अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) से हाथ मिलाया है। जानकारी के मुताबिक एनएचएआई नई बुलेट ट्रेनों के लिए जमीन का अधिग्रहण करेगा।

इसके अलावा रेलवे ने हाई स्पीड और सेमी हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए 7 नए रूटों की पहचान की है, जहां जल्द ही और बुलेट ट्रेनें चलाई जा सकती है। बता दें कि हाई स्पीड कॉरिडोर पर ट्रेन 300 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है। जबकि सेमी हाई स्पीड कॉरिडोर पर ट्रेनें 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेंगी।

इन सात रूट्स पर बुलेट ट्रेन चलाने की है योजना : अहमदाबाद-मुंबई के अलावा देश के हर कोने में बुलेट ट्रेन चलाने की कवायद रेलवे ने शुरू की है। रेलवे की योजना है कि सात व्यस्त रूट पर बुलेट ट्रेन चलाई जाए। इसके लिए दिल्ली वाराणसी (865 किलोमीटर) के डाटा कलेक्शन के लिए टेंडर जारी हो चुका है। दिल्ली-अमृतसर (435 किलोमीटर), वाराणसी-हावड़ा (760 किलोमीटर), चैन्नई-मैसूर (435 किलोमीटर), मुंबई-नागपुर (753 किलोमीटर), मुंबई-हैदराबाद (711 किलोमीटर), दिल्ली-अहमदाबाद (886 किलोमीटर) रेल रूट चुना गया है।

दिल्ली-अहमदाबाद रूट के लिए तैयारी शुरू : दिल्ली-अहमदाबाद 886 किलोमीटर ट्रैक के लिए नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर रहा है। इस रूट पर तेज रफ्तार ट्रेन चलाने के लिए मंगलवार को डाटा कलेक्शन के लिए टेंडर भी जारी किया गया है। बता दें कि यह बुलेट ट्रेन दिल्ली-अहमदाबाद वाया जयपुर, उदयपुर चलाई जाएगी।

पहली बुलेट ट्रेन 2023 तक चल सकती है : कुछ महीने पहले रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने कहा था कि कोविड-19 महामारी के बावजूद अहमदाबाद-मुंबई हाई स्पीड रेल कॉरिडोर परियोजना पर काम समय पर पूरा होने की संभावना है। देश की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना की समय सीमा दिसंबर 2023 तक है। हालांकि, इस महत्वाकांक्षी परियोजना में कई समस्याएं हैं, इनमें सबसे बडी समस्या जमीन मालिकों द्वारा विरोध और भारतीय रुपए और जापानी येन के बीच व्यापक अंतर के कारण परियोजना की लागत बढ़ती जा रही है।

अहमदाबाद-मुंबई के बीच रेल कॉरिडोर के लिए जापान इंटरनेशनल कॉर्पोरेशन एजेंसी ने कुल लोन का 80 प्रतिशत हिस्सा 20 साल के लिए दिया है। कुल लोन एक लाख करोड़ रुपए है जो इस प्रोजेक्ट के लिए चाहिए। बाकी का खर्च महाराष्ट्र सरकार और गुजरात सरकार उठाएगी।

अहमदाबाद से मुंबई का सफर 2 घंटे 7 मिनट का होगा : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की सौगात दी थी। हाई स्पीड कॉरिडोर मुंबई-अहमदाबाद रूट पर निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। इस रूट पर बुलेट ट्रेन 320 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेगी। अहमदाबाद से मुंबई तक के सफर में करीब 2 घंटे 7 मिनट का वक्त लगेगा। प्रॉजेक्ट में कुल दूरी करीब 508 किलोमीटर की है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *