पंचतत्व में विलीन हुए बिहार के लाल और भारत के महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह, भतीजे ने दी मुखाग्नि

पंचतत्व में विलीन हुए भोजपुर के लाल महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह, भतीजे मुकेश ने दी मुखाग्नि, …देखें तस्वीरें

आरा : आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती देनेवाले भोजपुर के लाल महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह का अंतिम संस्कार शुक्रवार को भोजपुर जिले के महुली घाट पर राजकीय सम्मान के साथ किया गया. इस मौके पर उनके भतीजे मुकेश कुमार ने डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी. इसके साथ ही बिहार से लेकर कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी तक बिहार का डंका बजानेवाले महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह पंचतत्व में विलीन हो गये.


जानकारी के मुताबिक, गणित का सूत्र पिरो कर आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती देनेवाले महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए शुक्रवार की सुबह उनके पैतृक आवास जिले के बसंतपुर स्थित घर में रखा गया. सुबह से ही लोगों के आनेवालों का तांता लगा रहा. करीब नौ बजे बैंड बाजे के साथ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह की शव यात्रा निकाली गयी. शव यात्रा में भारी जन सैलाब उमड़ पड़ा था. शव यात्रा में शामिल लोग ‘डॉ वशिष्ठ अमर रहे’, ‘जब तक सूरज चांद रहेगा, तब तक वशिष्ठ सिंह का नाम रहेगा’ गूंजता रहा. इसके बाद भोजपुर के लाल डॉ वशिष्ठ के पार्थिव शरीर को लेकर महुली घाट पहुंचे. यहां पहुंचने पर प्रशासनिक अधिकारियों और सैकड़ों लोगों की मौजूदगी महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह को राजकीय सम्मान के साथ श्रद्धांजलि दी गयी. इसके बाद वशिष्ठ नारायण सिंह के छोटे भाई अयोध्या प्रसाद सिंह के बेटे मुकेश कुमार ने अंतिम संस्कार की रस्म अदायगी करते हुए महान गणितज्ञ के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी. इसके साथ ही वशिष्ठ नारायण सिंह पंचतत्व में विलीन हो गये.

मालूम हो कि गुरुवार की सुबह महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह का निधन हो गया था. इसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक जताते हुए राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करने की घोषणा की थी. साथ ही पटना स्थित उनके आवास पर जाकर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी थी. मुख्यमंत्री के अलावा डिप्टी सीएम सुशील मोदी, प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति समेत कई नेताओं और उनके सहपाठियों ने शोक जताया था.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *