विरोट कोहली शतक मारने के लिए थे बेताब, वर्ल्ड कप में 100 नहीं बनाने का था मलाल

पटना : भारत और वेस्टइंडीज के बीच एक दिवसीय सीरीज का दूसरे मैच में भारत ने वेस्टइंडीज को डकवर्थ लुइस नियम के तहत 59 रन से हराया। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने त्रिनिदाद के पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले गए इस मैच में 14 चौके और एक छक्के की मदद से 120 रन की पारी खेली। इसके साथ ही विराट कोहली के वनडे कॅरियर का यह 42 वां शतक हो गया। विराट कोहली के शतक मारने को लेकर उसके साथी खिलाड़ी और शानदर गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने कुछ खुलासा किया है। भुवनेश्वर कुमार ने पत्रकारों से कहा कि आप विराट के हाव-भाव से यह समझ सकते हैं कि वे शतक लगाने के लिए कितने बेताब थे। वे विश्प कप में एक भी शतक नहीं लगाए थे। विराट 70 या फिर 80 रन के आसपास आउट हो जा रहे थे। उन्होंने आउट होने के बाद पवेलियन आकर हमें बताया कि विकेट आसान नहीं था। इस मैच में कुमार ने क्रिस गेल, निकोलस पूरन, रोस्टन चेस और केमार रोच के विकेट लिए। जब कुमार को विराट ने दूसरे स्पेल के लिए वापस बुलाया तब वेस्टइंडीज का स्कोर चार विकट के नुकसान पर 179 पर था, जिसके बाद भुवी ने अपने कप्तान को निराश नहीं करते हुए निकोलस पूरन और रोस्टन चेस को जल्दी ही पवेलियन वापस भेज दिया।

विराट ने वर्ल्ड कप में लगाए थे पांच अर्धशतक : बता दें कि भारतीय कप्तान काफी समय बाद शतकीय पारी खेले हैं। इससे पलहे वर्ल्ड कप के दौरान विराट ने पांच अर्धशतक लगाए थे। विराट को उनकी शानदार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच का खिताब मिला। आज के शतकीय पारी के बाद विराट कोहली वेस्टइंडीज के खिलाफ सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। विराट के अलावा पाकिस्तान के जावेद मिंयादाद को पीछे छोड़ा। इतना ही नहीं विराट कोहली वनडे में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे भारतीय बल्लेबाज भी बन गए। विराट ने सौरव गांगुली को पीछे छोड़ दिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *