होटल में वेटर का काम करने वाला युवक बना IAS अधिकारी, 156वीं रैंक लाकर लहराया परचम

PATNA : दिन में वेटर की नौकरी और रात में पढ़ाई, जानिये- IAS अधिकारी के. जयगणेश की सफलता की कहानी : के. जयगणेश की पारिवारिक स्थिति बहुत ज्यादा खराब थी और इस वजह से उन्होंने कभी वेटर की नौकरी की थी। लेकिन अपनी मेहनत और काबिलियत के दम पर उन्होंने 156वीं रैंक हासिल कर IAS बनने का सपना पूरा कर लिया।

कहते हैं कि लगातार परिश्रम से सफलता जरूर हासिल होती है। इस बात IAS अधिकारी के. जयगणेश पर बिल्कुल सटीक बैठती है। तमाम विपरीत परिस्थितियों और छह बार सिविल सर्विस की परीक्षा में फेल होने के बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और अपने सपने को सच कर दिखाया। के. जयगणेश की पारिवारिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी। इस वजह से कभी उन्हें वेटर की नौकरी भी करनी पड़ी थी। लेकिन अपनी मेहनत और काबिलियत के दम पर उन्होंने सिविल सेवा में 156वीं रैंक हासिल कर IAS बनने का सपना पूरा कर लिया। आइए जानते हैं के. जयगणेश के लाइफ से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें-

ऐसी है IPS डी रूपा की कहानी-इंजीनियरिंग छोड़ शुरू की थी तैयारी: के. जयगणेश एक बेहद साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता घर चलाने के लिए फैक्ट्री में काम करते थे। जयगणेश बचपन से ही पढ़ाई में अच्छे थे और उन्होंने 12वीं की परीक्षा 91 प्रतिशत अंकों के साथ पास की थी। इसके बाद उन्होंने तांथी पेरियार इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एडमिशन ले लिया। पढ़ाई पूरी होने के बाद उनकी एक कंपनी में नौकरी भी लग गई, जहां उन्हें 2500 रुपये महीने तनख्वाह मिलती थी। जयगणेश को अपनी नौकरी को लेकर ऐसा लगने लगा था कि 2500 रुपए में उनका घर नहीं चलेगा और उन्होंने नौकरी छोड़ दी और यूपीएससी की पढ़ाई शुरू कर दी।

ऐसी है सुपर कॉप नवनीत सिकेरा की कहानी- क्यों करनी पड़ी थी वेटर की नौकरी: मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जब जयगणेश यूपीएससी की तैयारी कर रहे थे तो उनके पास रहने और खाने के लिए पैसे नहीं थे और इसी वजह से उन्होंने एक होटल में वेटर की नौकरी करनी पड़ी थी। उन्होंने ऐसा इसलिए भी किया क्योंकि इंजीनियरिंग की डिग्री के बावजूद उन्हें कोई ढंग की नौकरी नहीं मिल रही थी और वे घर नहीं लौटना चाहते थे।

अगर आप हमारी आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप हमें 8292560971 पर गुगल पे या पेटीएम कर सकते हैं…. डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *