जो खुद एक मैच ना खेला हो वो इंडिया का कोच बना दिया गया है, युवी ने सेलेक्टर्स पर भी उठाए सवाल

पूर्व भारतीय दिग्गज क्रिकेटर युवराज सिंह आज-कल सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं. वह लगभग हर हफ्ते इंस्टाग्राम पर लाइव आते हैं. एक ऐसे ही लाइव सेशन में युवराज सिंह ने भारत के मौजूदा बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ पर सवाल उठाए हैं. उनके मुताबिक वह टी20 क्रिकेट में खिलाड़ियों का मार्गदर्शन रखने की काबिलियत नहीं रखते. इस सेशन में उन्होंने टीम के सेलेक्टर्स और यहां तक की हेड कोच रवि शास्त्री पर भी सवाल उठाए.

विक्रम राठौड़ ने भारत के लिए 1996 से 1997 के बीच छह टेस्ट और सात वनडे खेले हैं. वह टी20 फॉर्मेट में कोई मैच नहीं खेले हैं. युवराज ने एक इंस्टाग्राम सेशन में कहा,‘राठौड़ मेरा दोस्त है. क्या आपको लगता है कि वह टी20 खिलाड़ियों की मदद कर सकता है. उसने उस स्तर पर क्रिकेट खेला ही नहीं है.’ हर खिलाड़ी से अलग तरह से पेश आना पड़ता है. मैं कोच होता तो जसप्रीत बुमराह को रात नौ बजे गुडनाइट बोल देता और हार्दिक पंड्या को रात दस बजे ड्रिंक्स के लिए बाहर ले जाता. अलग-अलग लोगों से अलग-अलग तरीके से पेश आना पड़ता है.आप हर खिलाड़ी को यह नहीं सकते है कि मैदान पर जाओ और खुलकर खेल. यह तरीका सहवाग जैसे खिलाड़ी के साथ काम कर सकता है, लेकिन पुजारा के अलग तरीका काम करेगा. ऐसे में कोचिंग स्टाफ को इस बारे में पता होना चाहिए.’

युवराज ने रवि शास्त्री पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि टीम के मौजूदा खिलाड़ियों के पास बात करने और सलाह लेने के लिए कोई नहीं है. तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा, ‘मुझे नहीं पता रवि सर क्या कर रहे हैं या नहीं, शायद उनके पास दूसरे भी काम हैं. युवराज ने कहा, ‘मैं हमेशा कहता हूं कि चयनकर्ताओं को फैसलों को चुनौती देने वाला होना चाहिए, लेकिन आपके चयनकर्ताओं ने सिर्फ चार-पांच मैच वनडे मैच खेले हों, तो उनकी मानसिकता उसी तरह की होगी. यह चीजें तब नहीं होती थी जब सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी कप्तान थे. 2011 विश्व कप में हमारे पास अच्छी खासी अनुभवी टीम थी.’

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *