नीतीश ने RCP सिंह से लिया धोखेबाजी का बदला, इस एक गलती के कारण कट गया राज्य सभा का टिकट

आरसीपी सिंह की ग़लती- नीतीश की इच्छा के विरुद्ध केंद्र में मात्र एक मंत्री पद के लिए सहमत हुए और खुद मंत्री बन गए बिना नीतीश की सहमति प्राप्त किये।

मीडिया के सामने इनडायरेक्टली नीतीश कुमार को झूठा बोला।
पहले मीडिया ने नीतीश से सवाल किया था कि 2019 में मात्र एक मंत्री पद के लिए राज़ी नहीं थे तो अब क्यों इसको स्वीकार किया- नीतीश कुमार का जवाब था 2019 में हम पार्टी के अध्यक्ष थे और हमलोगों ने निर्णय किया था नहीं शामिल होना है। इस बार आरसीपी बाबू अध्यक्ष थे और पार्टी में सब लोगों ने मिलकर उनको अधिकृत किया था फैसला के लिए एयर उन्होंने जो फैसला किया वह हुआ। फिर आरसीपी से सवाल पूछा गया तो उन्होंने सीधे कह दिया कि नीतीश बाबू की सहमति और उनके आदेश के बाद ही मैंने फैसला किया।

● शेर को उसके मांद में चुनौती- नीतीश कुमार के राजनीति का केंद्र बिंदु नालंदा रहा है। मंत्री बनने और अध्यक्ष पद गंवाने के बाद आरसीपी सिंह ने नालंदा में अपनी गतिविधि कुछ ज़्यादा ही बढा दी थी। अंत मे कॉउंटर करने नीतीश कुमार को जनसंपर्क अभियान ओर निकलना पड़ा।

Saquib

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.