बिहार के समस्तीपुर में घर के 2 लोगों की कोरोना से मौत, डिप्रेशन में थी महिला, फांसी लगाकर दी जान

समस्तीपुरः नगरगामा पंचायत के मुखिया मंजीत कुमार की पिछले महीने कोरोना वायरस से हुई मौत के बाद डिप्रेशन में चल रही उनकी पत्नी और सिपाही 31 वर्षीय रीता कुमारी ने बुधवार की दोपहर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. वह सहरसा में पोस्टेड थी. वह डेढ़ माह के नवजात और एक तीन साल के बेटे को छोड़कर गई है. कुछ दिनों से वह मातृत्व अवकाश पर थी.

मुखिया के बड़े भाई और पेशे से शिक्षक संजीव कुमार ने बताया कि उनके छोटे भाई मुखिया मंजीत की मौत के बाद उसकी पत्नी डिप्रेशन में चली गई थी. बुधवार की सुबह भी वह अपने डेढ़ माह के एक बच्चे और उनकी बेटी के साथ घर के कमड़े में सो रही थी, लेकिन कुछ देर बाद ही जब बच्चे उससे अलग हुए तो वह कमरा बंद करने के बाद फिर सो गई.

इधर, दोपहर में जब उसने कमरे का दरवाजा नहीं खोला तो दरवाजा तोड़ा गया तो वह फंदे में लटकी हुई थी. इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई. वह अपने पीछे दो बेटे प्रियांशू कुमार (3 वर्ष) और शिव्यांश (डेढ़ माह) को छोड़ गई है.

नगरगामा पंचायत के युवा व चर्चित मुखिया मंजीत कुमार की बीते 11 मई को कोरोना से की वजह से मौत गई थी. वह 5 मई को एंटीजन जांच में कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद से घर पर ही होम क्वारेंटाइन थे. उनकी स्थिति खराब होने के बाद परिजन उन्हें बेहतर इलाज के लिए बेगूसराय ले जा रहे थे कि बीच रास्ते ही उनकी मौत हो गई.

कुछ दिन पूर्व ही उनके पिता सुरेंद्र महतो का निधन भी कोरोना से बेगूसराय में इलाज के दौरान हो गया था. एक सप्ताह के अंदर कोरोना की वजह से एक ही परिवार ने एक पिता के साथ बेटे को भी खो दिया था. घटना को लेकर पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई है. प्रभारी थानाध्यक्ष महानंद सोरेन ने बताया कि आवेदन मिलने के बाद आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.