लालू परिवार की ‘धोखेबाजी’, भोला यादव की गिरफ्तारी पर तेजस्वी ने साधी चुप्पी, एक शब्द नहीं बोला

लालू की परछाई भोला गिरफ्तार, सीबीआई का दावा-जमीन के बदले नौकरी का ये बड़ा राजदार, इस केस में पहली गिरफ्तारी: लालू, राबड़ी, मीसा और हेमा भी अभियुक्त, 18 मई को लालू परिवार पर केस दर्ज, पटना और दरभंगा में भोला यादव के चार ठिकानों पर छापेमारी : जमीन लेकर रेलवे में ग्रुप डी की नौकरी देने के मामले में आरोपी पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद के परछाई माने जाने वाले भोला यादव को सीबीआई ने बुधवार को दिल्ली में गिरफ्तार कर लिया। वर्ष 2004 से 2009 तक जब लालू रेलमंत्री थे भोला उनके ओएसडी (ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी) थे। भोला के अलावा सीबीआई ने कथित तौर पर जमीन देकर नौकरी पाने वाले हृदयानंद चौधरी को भी गिरफ्तार किया है।

हृदयानंद गोपालगंज का रहने वाला है और इस केस में अभियुक्त है। सीबीआई के अनुसार 2004 से 2009 के बीच रेलमंत्री रहते लालू के कार्यकाल में जमीन के बदले नौकरी देने की पूरी साजिश में ओएसडी रहे भोला यादव की संलिप्तता सामने आई है। भोला नौकरी पाने वालों के परिजनों की जमीन लालू परिवार को ट्रांसफर कराने और रेलवे में नियुक्त कराने में भी शामिल रहे हैं। भोला और हृदयानंद की गिरफ्तारी के बाद सीबीआई ने पटना और दरभंगा में चार ठिकानों पर छापेमारी की। पटना और दरभंगा में भोला का घर है।

दिल्ली की सीबीआई टीम ने इस मामले में 18 मई 2022 को लालू प्रसाद, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, उनकी बेटी मीसा भारती और हेमा यादव सहित 16 नामजद व अन्य अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। 20 मई को पटना में लालू-राबड़ी आवास व उनकी बेटी मीसा भारती के आवास सहित कुल 16 ठिकानों पर छापेमारी की थी। लालू-राबड़ी आवास पर करीब 14 घंटे तक सीबीआई ने छापेमारी की थी।

डेली बिहार न्यूज फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें….DAILY BIHAR  आप हमे फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और WhattsupYOUTUBE पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.